महिला ने पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के आला अधिकारियों पर लगाए गंभीर आरोप।

0
316

आई 1न्यूज़ 1 अप्रैल 2021 (अमित सेठी ) पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड में लंबे समय से दिहाड़ीदार पद पर काम करने वाली एक महिला ने अपने की विभाग के कुछ अधिकारियों पर तंग-परेशान करने के अलावा शारीरिक शोषण संबंधित संगीन आरोप लगाएं हैं। महिला का दावा है कि उसने अपने विभाग के अधिकारियों के खिलाफ नामजद शिकायतदी है। जिसमें उसने बताया है कि अधिकारी एक ओर जहां उससे स्वयं अपने ही पैसों से चिकन-शराब की मांग करते हैं , वहीं उनके कहे अनुसार काम न करने पर अधिकारी उसे तंग परेशान करते हैं जिसके चलते उसे थक हार कर अधिकारियों से इंसाफ की गुहार लगानी पड़ी है। महिला का आरोप है कि उसने उपरोक्त मामले की शिकायत पंजाब के शिक्षा मंत्री से लेकर स्कूल शिक्षा सचिव पंजाब से भी लिखित शिकायत कर इंसाफ की मांग की है।
फेस-11 निवासी पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की दिहाड़ीदार महिला कर्मचारी अमृत कौर का कहना है कि वह दंगा पीडि़त परिवार से संबंधित हैं और पिछले 2० सालों से पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड में दिहाड़ीदार पद पर काम कर रही हैं, लेकिन पिछले 5-6 महीनों से एक उन्हें बोर्ड के तीन अधिकारियों जिनमें एक महिला अधिकारी भी शामिल है द्वारा नजायज तौर पर तंग परेशान किया जा रहा है और जब वह मना करती हैं या उनके खिलाफ आवाज उठाने की बात करती हैं तो उनको और तंग परेशान और नौकरी से निकाल देने की धमकी तक दी जाती है। पीडि़त अमृत कौर का कहना है उनके पति हार्ट के मरीज है और उनके पूरे घर की जिम्मेदारी उनके सिर पर है, लेकिन इसके बावजूद अकादमिक शाखा में बतौर सुपरिटैंडैंट के पद पर तैनात महिला अधिकारी भूपिंदरबीर कौर ने कोविड-19 के दिनों में खूब तंग परेशान किया और घर के बर्तन साफ करवाने से लेकर कपड़े धुलवाने और बाजार से अन्य समान लाने तक को कहा। अमृत कौर का आरोप है कि कई बार उन्होंने यह कार्य डयूटी के दौरान भी किया। लेकिन जब काम करने से मना किया तो उन्होंने आगे विभाग उसकी गलत रिपोर्ट बना कर भेज देंगी। अमृत कौर ने शिक्षा विभाग में दो अन्य अधिकारी जिसमें  अमला शाखा के सहायक गुरप्रेम सिंह औरर सहायत सचिव जसबीर सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसने ये दोनों अधिकारी उससे चिकन और बढिय़ा शराब की मांग करते हैं और वह नौकरी बचाने के लिए मजबूरीवश अपने पैसों के उनको देती है, लेकिन उसके बावजूद पिछले कुछ महीनें से उसे उपरोक्त अधिकारियों द्वारा लगातार तंग परेशान किया जा रहा है और नौकरी से निकलवा देने व गलत रिपोर्ट बना कर धमकी दी जा रही है। महिला ने विभाग में काम कर रहे अन्य दिहाड़ीदार कर्मचारियों के बारें में कथित आरोप लगाय ा है कि अन्य कर्मचारियों से भी इस तरह के अधिकारी ,शराब, चिकन, व अन्य समानों की मांग करते हैं, लेकिन कुछ कर्मचारी मजबूरीवश नहीं बोल पाते हैं और चुप करके रह जाते हैं। अमृत कौर पर बोर्ड अधिकारी जसबीर सिंह और गुरप्रेम सिंह पर संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि रोजाना दिहाड़ीदार कर्मचारियों से नशे, पैसे, शराब-मीट खा कर एैशो आराम करते हैं और बदली करते हैं, जिसका सबूत मौके पर पेश कर दूंगी। पीडि़त महिला ने यह सब कुछ दावा / आरोप पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्उ के चेयरमैन को लिखित में दी शिकायत के आधार पर पत्रकारों को जानकारी देते हुए कथित तौर पर लगाएं हैं। इस दौरान महिला ने मौके पर उपस्थित पत्रकारों को एक ऑडियों रिर्काडिंग भी सुनाई जिसमें कोई व्यक्ति शराब और चिकन की मांग कर रहा है।
मोहाली।  पीडि़त महिला अमृत कौर द्वारा लगाए गए कथित आरोपों को निराधार बताते हुए बोर्ड अधिकारी जसबीर सिंह ने एक ओर जहां उपरोक्त सभी आरोपों को निराधार बताया। वहीं उनका कहना है कि महिला अक्सर अन्य विभागों में भी लड़ती रहती है। जसबीर सिंह का कहना है कि महिला से कोई सामान नहीं मंगवाया गया है ,उल्टा वह स्टाफ को कहती रहती है कि उसके पति ये-ये चीजें बढिय़ा बनाते हैं।

दूसरा पक्ष

वहीं भूपिंदरबीर कौर कहना है कि जो भी बात करनी है मंडे को आफिस में आ कर बात करो, वह कार्यालय में ही जानकारी देंगी। जबकि गुरप्रेम सिंह ने महिला पर ही भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है और अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को निराधार बताया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here