आशा कुमारी और महिला कोन्स्टेबल के बीच का पढ़े पूरा मामला

0
1288

आई 1 न्यूज़ ब्यूरो/शिमला

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के हिमाचल विधानसभा चुनाव में हार पर मंथन के लिए राजीव भवन शिमला पहुंचने से पहले खासा हंगामा हो गया। डलहौजी से कांग्रेस विधायक, पूर्व मंत्री और पार्टी की पंजाब प्रभारी आशा कुमारी ने तैश में आकर पार्टी कार्यालय के गेट पर एक महिला कांस्टेबल को थप्पड़ जड़ दिया।
महिला कांस्टेबल ने भी उनपर हाथ उठा दिया। इस पर खूब हंगामा हो गया। विधायक का आरोप है कि पहचान बताने के बावजूद महिला कांस्टेबल ने उन्हें राहुल गांधी की बैठक में जाने से रोका। उन्हें और अन्य महिला कार्यकर्ताओं को धक्का दिया और अपशब्द कहे। उधर, राहुल गांधी ने बैठक में इस प्रकरण पर विधायक एवं पूर्व मंत्री आशा कुमारी को फटकार लगाई।

उनकी तरफ इशारा कर कहा कि ये कांग्रेस की संस्कृति नहीं है। उन्होंने इस तरह से जो भी किया, वह गलत है। आशा कुमारी ने बैठक में राहुल के सामने माफी मांगने के अलावा मीडिया में भी अपने व्यवहार पर खेद जताया। उधर, महिला कांस्टेबल ने विधायक के खिलाफ सदर थाना में एफआईआर दर्ज करवा दी है।
 

राहुल ने आशा के व्यवहार पर जताई नाराजगी

 राहुल गांधी के शुक्रवार को राजीव भवन शिमला पहुंचने से पहले ही कांग्रेस विधायक आशा कुमारी, मुकेश अग्निहोत्री, धनीराम शांडिल आदि कांग्रेस नेता सर्कुलर रोड पर पार्टी के प्रदेश कार्यालय पहुंचे। वे गेट से प्रवेश करने लगे तो इसी बीच एसपीजी के निर्देश पर पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक दिया।
भीड़-भड़क्के में पुलिसवालों, कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच धक्का- मुक्की होती रही। एक महिला कांस्टेबल ने आशा कुमारी को रोका तो उन्होंने गुस्से में उसे थप्पड़ जड़ दिया। जवाब में महिला कांस्टेबल ने भी आशा कुमारी को तमाचा मारा।

इस बीच आशा कुमारी और इस महिला कांस्टेबल के बीच बहस हो गई। यह सब मीडियाकर्मियों के सामने ही हुआ। राहुल गांधी बैठक लेने पहुंचे तो तीसरे सत्र की बैठक तक उनके पास भी ये जानकारी पहुंच गई। उन्होंने बैठक में कांग्रेस पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के बीच आशा के इस व्यवहार पर नाराजगी जताई। 
 

अपशब्द कहे; राजपूत की बेटी हूं, उठ गया हाथ: आशा

 आशा कुमारी ने कहा – मैं विधायक हूं। भीतर बैठक के लिए जा रही हूं। ये कहने और अपना परिचय पत्र दिखाने के बावजूद महिला कांस्टेबल मुझसे उलझती रही और अपशब्द कहती रही। इस पर मुझे गुस्सा आ गया और खुद पर नियंत्रण नहीं रख पाई। राजपूत की बेटी हूं, इसलिए हाथ उठा गया।
हालांकि, उठाना नहीं चाहती थी। जो हुआ, उसके लिए खेद जताती हूं। मगर इस सबके लिए सुरक्षा की अव्यवस्था ही जिम्मेवार रही है। राहुल जी हमें डांट सकते हैं। क्या इसका आपको कोई राजनीतिक नुकसान भी होगा? इस पर आशा बोलीं- वे घाटा देखकर राजनीति नहीं करतीं। नेता प्रतिपक्ष के पद के लिए वे वीरभद्र सिंह के नाम का ही प्रस्ताव रखती हैं। 

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल
थप्पड़ प्रकरण से पहले मीडिया राहुल गांधी के आने का इंतजार कर रहा था। थोड़े ही देर में इस घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसको लेकर बहस छिड़ गई। कांग्रेसी बचाव की मुद्रा में तो सत्ता पक्ष भाजपा के नेता विधायक के व्यवहार की निंदा कर रहे हैं।

विधायक आशा कुमारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

 थप्पड़ प्रकरण के बाद महिला कांस्टेबल ने सरकारी ड्यूटी के दौरान बाधा पहुंचाने और मारपीट के आरोप में सदर थाना शिमला में कांग्रेस विधायक आशा कुमारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है।
विधायक पर आरोप है कि उन्होंने ड्यूटी पर तैनात महिला कांस्टेबल को थप्पड़ जड़ दिया। एसपी शिमला सौम्या सांबशिवन ने बताया कि शिकायत के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।

आगामी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। उधर, विधायक आशा कुमारी का कहना है कि वे महिला कांस्टेबल के खिलाफ किसी तरह की कानूनी कार्रवाई नहीं करेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here