तकनीकी शिक्षा विभाग की सभी संस्थाओं में बॉयोमीट्रिक सिस्टम स्थापित किया जायेगा-चन्नी

0
857

चंडीगढ़ अमित सेठी 17 अप्रैल 2017 तकनीकी शिक्षा विभाग की सभी संस्थाओं में बॉयोमीट्रिक सिस्टम स्थापित किया जायेगा-चन्नी पंजाब के तकनीकी शिक्षा मंत्री स. चरनजीत सिंह चन्नी ने तकनीकी शिक्षा विभाग के कालेजों तथा तकनीकी शिक्षा संस्थाओं में उपस्थिति यकीनी बनाने के लिये बॉयोमीट्रिक सिस्टम लागू करने का फैसला किया है। आज यहां विभाग की पहली बैठक की अध्यक्षता करते हुये तकनीकी शिक्षा मंत्री ने कहा कि यह उपस्थिति सिस्टम स्टॉफ के साथ-साथ विद्यार्थीयों पर लागू होगा जिसकी सीधी ऑनलाइन निगरानी मुख्यालय द्वारा की जायेगी। तकनीकी शिक्षा मंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा सरकारी पॉलीटैकनिक कालेजों, इंजीनियरिंग कालेजों और आई टी आई में विद्यार्थीयों के प्रवेश को उत्साहित करने के लिये होश्यिार और खेलों में उपलब्धियां हासिल करने वाले विद्यार्थीयों के लिये पंजाब सरकार द्वारा छात्रवृति स्कीम आरंभ की जायेगी। उन्होंने कहा कि सरकारी तकनीकी शिक्षा संस्थानों के अध्यापकों तथा शेष स्टॉफ निजी संस्थानों के मुकाबले अधिक शिक्षित है। अधिक वेतन पा रहा है इसलिये सरकारी तकनीकी शिक्षा संस्थानों में गुणात्मक शिक्षा प्रदान तथा 100 प्रतिशत प्रवेश हर हाल में यकीनी बनाया जाये। स. चन्नी ने विभागों के सभी अधिकारियों और प्रिंसीपलों को कठोर चेतावनी देते हुये कहा कि विभाग भाई भतीजावाद या भ्रष्टाचार किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही किया जायेगा और संपूर्ण कार्य मैरिट के आधार पर विश्वसनीय बनाये जायें। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारियों तथा अध्यापकों की पदोन्नित कारगुजारी पर आधारित होगी जिसमें कोई भी सिफारिश नही चलेगी। उन्होंने आगे कहा कि सरकारी संस्थानों में मौजूदा और भविष्य की जरूरतों को देखते हुये गुणात्मक शिक्षा तथा प्रशिक्षण देने पर बल दिया जाये ताकि पंजाब के नवयुवकों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नौकरियां हासिल करने में सरलता हो सके। उन्होंने साथ ही कहा कि प्रत्येक संस्था के मुखी को अपने स्तर पर बड़ी औद्योगिक इकाईयों से संपर्क कायम करके अधिक से अधिक नवयुवकों को रोजगार दिलाने के लिये प्रयास करने चाहिए।
स. चन्नी ने एक बड़ा फैसला लेते हुये घोषणा की कि परीक्षाओं में नकल बिल्कुल भी बर्दाश्त नही की जायेगी और यदि कोई ऐसा करता या करवाता है, कोई फलाइंग दस्ते द्वारा पकड़ा गया तो जवाबदेही डियूटी पर तैनात अधिकारी की तय की जायेगी और उसके खिलाफ भी कठोर कार्रवाई विश्वसनीय तौर पर होगी। इसके अतिरिक्त उन्होंने कहा कि पुन: मूल्यांकन करवाने के लिये आवेदन करने वाले विद्यार्थीयों की उत्तर पुस्तिकाएं अन्य चैक करने वाले अध्यापक के पास भेजने के साथ-साथ विभाग की वैबसाइट पर भी डाली जायेंगी। उन्होंने साथ ही कहा कि यदि पुन: मूल्यांकन में 10 प्रतिशत अंकों से अधिक का अंतर पाया गया तो पेपर चैक करने वाले विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी। तकनीकी शिक्षा मंत्री ने मुख्यालय के अधिकारियों को आदेश जारीकरते हुये कहा कि वह लगातार क्षेत्र में तकनीकी शिक्षा संस्थानों की चैकिंग करके हर कार्रवाई की रिपोर्ट उनतक पहुंचायेंगे। इसके अतिरिक्त तकनीकी शिक्षा विभाग ने अपने संस्थानों की कारगुुजारी को बढ़ाने के उद्धेश्य से अंदरूनी ग्रेडएशन प्रणाली लागू करने का फैसला भी किया है, जिसके अनुसार बढिय़ा कारगुजारी वाली संस्थानों को सम्मान्नित किया जायेगा और घटिया कारगुजारी वाले संस्थानों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी और इसके साथ ही विभाग द्वारा प्रत्येक वर्ष बढिय़ा कारगुजारी वाले तीन प्रिंसीपलों और तीन अध्यापकों को राज्य पुरस्कार से सम्मान्नित करने की घोषणा भी तकनीकी शिक्षा मंत्री ने की। इस अवसर पर अन्य के अतिरिक्त श्री एम पी सिंह अतिरिक्त मुख्य सचिव, श्री काहन सिंह पन्नू, सचिव, श्री पुनीत गोयल सचिव, स. मोहन बीर सिंह अतिरिक्त निदेशक, श्रीमती दलजीत कौर अतिरिक्त निदेशक, श्री एच पी सिंह अतिरिक्त निदेशके के इलावा तकनीकी शिक्षा संस्थानों और कालेजों के प्रिंसीपल भी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here