Friday, October 7, 2022
to day news in chandigarh
Homeचंडीगढ़सात जन्मों की कसम अब सिर्फ बात ही रह गई है पर...

सात जन्मों की कसम अब सिर्फ बात ही रह गई है पर कलयुग में सात जन्मों  की परिभाषा सिर्फ 4 लाख से लेकर लाखो तक की है ।

आई 1 न्यूज़ 29 जून 2018 ( अमित सेठी )  सात जन्मों की कसम अब सिर्फ बात ही रह गई है पर कलयुग में सात जन्मों  की परिभाषा सिर्फ 4 लाख से लेकर लाखो तक की है ।

सरकार का एक कदम अच्छा  है की N.I.R धुलो  पर सख्ताई की है पर जो हिन्दूसातन मे लड़कियों को धोखा देते है उन का क्या ।

आज देश की लगभग जनसंख्या  1 लख 35 हजार करोड़ है पर मोदी सरकार में आज भी लडकिया असुरिक्षत है ऐसा क्यू ?

क्या फायदा विदेश  यात्रा का मोदी सरकार के 4 साल के शासन में भी लडकिया असुरक्षित क्यों महसूस करती है

देश भर में  मोदी सरकार ने भले ही अच्छे काम किये पर लडकिया कयों असुरिक्षत है हमारे भारत में ।

आज पुलिस के पास लड़कियों से जुड़े कैसो  की लिस्ट लम्बी होती जारही है ऐसा क्यू ? पुलिस के पास जादा कैस  ब्लातकार और  शादी से सताई हुई  बहने बेटिया के क्यू है ?

मन की बात बहुत अच्छा है प्रधानमंत्री साहब  कभी मन की बात में येभी पूछा लो की  देश की बेटिया कैसी है और पुलिस के पास कितने कैस है बेहन बेटियों के प्रधानमंत्री साहब  लाखो बहन बेटियों आज कोर्ट कचहरी के चक्कर लगा रही है |

प्रधानमंत्री साहब  जी  आप ने सब काम 4 सालो में  अच्छे किये है देश आप को सलाम करता है पर एक कदम देश की बहन बेटियों की ओर भी बढ़ाये ।

हम ये नहीं कहते कि हर जगह लडकिया ही ठीक हो ती है और लड़के गलत  में भी एक लड़का हु पर चाहे लड़की गलत भी हो पर उसकी इज्जत की कीमत रुपए में नहीं आंकी जा सकती  है  हम उनका कर्ज़ नही चुका सकते |

क्यू  की  जिसने हम को जन्म दिया वो भी एक दिन लड़की ही थी बाद में माँ बनी ।

हम चाहकर भी औरत का कर्ज नही चुका सकते रिश्ता कोई भी हो ।

में देश के प्रधानमंत्री जी से निवेदन करता हु की अभी भी आप के पास 1 साल  का वक्त है अभी भी कुछ कर दो  बहन बेटियों  के लिए और में दिल से दुआ करता हु की आप अगले 100 साल भी सरकार चलाये पर नारी शक्ति की ओर भी ध्यान दे ।

मेरे मन के विचार है में एक सच्चा पत्रकार हु मेरी  अंतर आत्मा की आवाज है की में कभी भी गलत ख़बर ना दिखाऊ जिस की वजह से किसी का दिल दुखे और में हमेशा सची खबर दिखाऊ और जनता जनार्धन को इंसाफ दिलवाऊ |

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments