मुख्यमंत्री भगवंत मान की समाज विरोधी तत्वों के खि़लाफ़ निर्णायक जंग कैनेडा आधारित गैंगस्टर लखबीर लंडा मोड्यूल का एक और कारकून खरड़ से गिरफ़्तार

28

आई न्यूज़ चंडीगढ़ 13 सितम्बर 2022 ( अमित सेठी ) मुख्यमंत्री भगवंत मान की समाज विरोधी तत्वों के खि़लाफ़ निर्णायक जंग कैनेडा आधारित गैंगस्टर लखबीर लंडा मोड्यूल का एक और कारकून खरड़ से गिरफ़्तार पुलिस टीमों ने उसके कब्ज़े  से 103 ग्राम हेरोइन भी की बरामद मुख्यमंत्री भगवंत मान के निर्देशों पर पंजाब पुलिस द्वारा समाज विरोधी तत्वों के विरुद्ध शुरु की गई जंग पंजाब के अपराध मुक्त होने तक रहेगी जारी कैनेडा आधारित गैंगस्टर लखबीर सिंह उर्फ लंड़ा और पाकिस्तान आधारित गैंगस्टर हरविन्दर सिंह रिन्दा द्वारा साझे तौर  पर चलाए जा रहे आई.एस.आई. से सहायता प्राप्त  आतंकवादी माड्यूल का पर्दाफाश करने के कुछ दिनों बाद ही पंजाब पुलिस के स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सैल (एस.एस.ओ.सी.) ने खरड़ से इस गिरोह के एक और संचालक को गिरफ़्तार किया है। गिरफ़्तार किये गए व्यक्ति की पहचान अनमोलदीप सोनी निवासी हरीके पत्तन, तरनतारन के तौर पर हुई है। पुलिस ने उसके पास से 103 ग्राम हेरोइन भी बरामद की है। इस गिरफ़्तारी से पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के दिशा-निर्देशों पर पंजाब पुलिस द्वारा समाज विरोधी तत्वों के विरुद्ध शुरु की गई जंग की उपलब्धियों में और वृद्धि हुई है। इससे पहले गुरूवार को, पंजाब पुलिस ने लंड़ा और रिन्दा के तीन नज़दीकी साथियों को गिरफ़्तार किया था, जिनमें नछत्तर सिंह उर्फ मोती भी शामिल है, जोकि हाल ही में हरियाणा के कुरुक्षेत्र के शाहबाद क्षेत्र में एक इम्परूवाईजड़ एक्सप्लोसिव डिवाइस (आई.ई.डी.) लगाने के मामले में मुख्य दोषी है। इस सम्बन्धी और जानकारी देते हुए ए.आई.जी. एस.एस.ओ.सी. वरुण शर्मा ने बताया कि सोनी, लखबीर सिंह उर्फ लंड़ा मॉड्यूल का सक्रिय मैंबर है, जो आतंकवादी गतिविधियों से सम्बन्धित हार्डवेयर और नशीले पदार्थों की डिलीवरी करने के अलावा मॉड्यूल के सदस्यों को छिपने की जगह प्रदान करता था। बताने योग्य है कि इस सम्बन्धी एस.एस.ओ.सी. थाना एस.ए.एस. नगर में एन.डी.पी. एस. एक्ट की अलग-अलग धाराओं के अंतर्गत एफ.आई.आर. दर्ज की गई है। बॉक्स: लंड़ा कौन है तरनतारन का निवासी लंडा  (33), जोकि साल  2017 में कैनेडा भाग गया था, ने मोहाली में पंजाब पुलिस  इंटैलीजैंस हैडक्वार्टर  पर रॉकेट प्रोपेलड ग्रेनेड (आर.पी.जी.) आतंकवादी हमले  की साजिश रची थी और अमृतसर में सब-इंस्पेक्टर दिलबाग सिंह की कार के नीचे एक आईईडी भी लगाया था। उसे पाकिस्तान आधारित ज़रुरी और बब्बर खालसा  इंटरनैशनल के साथ हाथ मिलाने वाले गैंगस्टर हरविन्दर सिंह उर्फ रिन्दा का करीबी  माना जाता है।

Previous articleविजीलैंस ब्यूरो द्वारा जी.एस.टी. घोटाले के 6 दोषी एजेंट गिरफ़्तार।
Next articleपशु पालन मंत्री लालजीत सिंह भुल्लर ने 68 वैटरनरी इंस्पेक्टरों को सौंपे नियुक्ति पत्र कहा  विभाग में ज़रुरी स्टाफ की भर्ती होगी जल्द