Sunday, April 21, 2024
to day news in chandigarh
Homeदेशअशोक चक्र विजेता नजीर वानी: जानिए उनके आतंकी से जवान बनने की...

अशोक चक्र विजेता नजीर वानी: जानिए उनके आतंकी से जवान बनने की कहानी

ऑय 1 न्यूज़ 26 जनवरी 2019…70वें गणतंत्र दिवस के मौके पर भारतीय सेना के लांस नायक नजीर वानी को  मरणोपरांत अशोक चक्र अवॉर्ड से सम्मानित किया गया. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनकी मां और पत्नी महजबीन को ये सम्मान सौंपा. आज हम आपको सेना के शहीद लांस नायक नजीर अहमद वानी के बारे में बताने जा रहे हैं जो पहले आतंकवादी थे, फिर सेना में शामिल हुए. और अब मरणोपरांत उन्हें अशोक चक्र अवॉर्ड सम्मानित किया गया.

1.कश्मीर के शोपियां में पिछले साल नवंबर में आतंकवाद रोधी अभियान के दौरान अपनी जान कुर्बान करने वाले लांस नायक नजीर पहले कश्मीरी हैं जिन्हें अशोक चक्र से सम्मानित किया गया. बता दें, अशोक चक्र शांतिकाल में दिया जाने वाला सेना का सबसे बड़ा सम्मान है.

2. आतंकी से देशभक्त सैनिक बने लांस नायक नजीर वानी सेना की 34 राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात थे. आतंकवादियों के खिलाफ अभियानों में उनकी बहादुरी और बलिदान को देखते हुए उन्हें दो बार सेना मेडल भी मिल चुका है.

3. सेना में कई सैनिकों को अशोक चक्र से सम्मानित किया गया है, लेकिन ये पहला मौका है जब आतंकी से सैनिक बने किसी जवान को इतने बड़े सम्मान से नवाजा गया. 4. वो 25 नवंबर 2018 की तारीख थी…जब आतंकवादी रह चुके लांस नायक नजीर अहमद वानी ने आतंकवादियों से लड़ते हुए अपनी जान वतन के नाम कुर्बान कर दी थी…शोपियां में आतंकियों पर प्रहार करते हुए नजीर वानी ने एक आतंकवादी को मार गिराया. और आतंकवादियों के सामने दीवार बनकर डटे रहे. जिसकी वजह से सुरक्षाबलों ने सभी 6 आतंकवादियों को मार गिराया, लेकिन साथियों को जान बचाने के लिए वह दहशतगर्दों की गोलियों का निशान बने और शहीद हो गए.5. देश के लिए कई जवानों ने अपनी जान की बाजी लगा दी. वहीं शहीद नजीर अहमद वानी की कहानी सबसे जुदा है, सबसे अलग है. बताया जाता है जब नजीर शहीद हुए थे उनकी पत्नी महजबीन की आंखों से एक आंसू नहीं छलका6. जब थे आतंकी: नजीर अहमद वानी कभी कश्मीर के उन भटके हुए नौजवानों में से एक थे जो आतंक के रास्ते पर चल पड़े थे, लेकिन साल 2004 में नजीर वानी ने ‘टेरिटोरियल आर्मी’ ज्वाइन कर ली थी..7. आतंक की राह छोड़कर सेना का साथ देने वाले नजीर वानी दक्षिण कश्मीर में कई आतंकवाद विरोधी अभियानों में शामिल रहे. आतंकवाद के खिलाफ अभियानों में नजीर वानी की वीरता को देखते हुए उन्हें 2007 में पहला सेना मेडल और फिर 2017 में दूसरा सेना मेडल से सम्मानित किया गया था.8. शहीद लांस नायक नजीर अहमद वानी के परिवार में उनकी पत्नी और दो बच्चे और मां-बाप हैं. वो दक्षिण कश्मीर में स्थित उस कुलगाम जिले के रहने वाले थे, जिसे आतंकवादियों का गढ़ माना जाता है.9. नजीर अहमद वानी ने आतंकवाद के खिलाफ शहादत देकर ये साबित किया है कि देश के नाम जान कुर्बान करने से बढ़कर कोई सम्मान नहीं है. इसलिए उन्हें शांतिकाल में सेना के सबसे बड़े सम्मान अशोक चक्र से नवाजा गया.10. एक आतंकी से अशोक चक्र तक का सफर तय करने वाले कश्मीर के जांबाज शहीद लांस नायक नजीर वानी को अशोक चक्र से सम्मानित किया जाना खुद भारतीय सेना के लिए भी सम्मान की बात है. जो कश्मीर घाटी को आतंकवादियों से मुक्त करवाने के लिए जी जान से जुटी है.11. आतंकवाद का रास्ता छोड़कर सेना में शामिल हुए नजीर की कहानी से साफ छलकता है कि इंसान का काम बुरा होता है. अगर कोई व्यक्ति गलत काम को छोड़ दें तो लोगों के एक बीच मिसाल बन सकता है.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments