Saturday, October 1, 2022
to day news in chandigarh
Homeपंजाबकैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा राजनैतिक पार्टियों को माघी के पहले दिन के...

कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा राजनैतिक पार्टियों को माघी के पहले दिन के पवित्र मौके पर कान्फ्ऱेंसें न करने की अपील

आई 1 न्यूज़ चैनल (अभिषेक धीमान) चंडीगढ़, 4 भारतीय पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सभी राजनैतिक पार्टियों को श्री मुक्तसर साहिब में माघी के पहले दिन की पवित्रता के मद्देनजऱ कोई राजनैतिक कान्फ्ऱेंस न करने की अपील की है। उन्होंने ऐलान किया कि इस पवित्र मौके पर न तो कांग्रेस पार्टी और न ही राज्य सरकार कोई सार्वजनिक समागम करेगी। यह खुलासा करते हुए मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह का मानना है कि इस पवित्र मौके को राजनीति का अखाड़ा नहीं बनाना चाहिए बल्कि इसको पूरी श्रद्धा और सत्कार के साथ मनाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री मुक्तसर साहिब में माघी के पहले दिन का यह पवित्र मौका 40 मुक्त्यिों के सत्कार में मनाया जाता है जिन्होंने मुगलों के खि़लाफ़ लड़ते हुए शहादतें दे दीं थीं। हालाँकि पंजाब के लोग भी महसूस करते हैं कि पिछले कुछ सालों से राजनैतिक पार्टियाँ अपने एजंडे की ख़ातिर इस पवित्र मौके को ईस्तेमाल करतीं रही हैं। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने लोगों ख़ासकर राजनैतिक नेताओं से अपील की कि राजनैतिक कान्फ्ऱेंसें /रैलियाँ करने की बजाय वह श्री मुक्तसर साहिब में गुरुद्वारा श्री टुट्टी गंडी साहिब के पवित्र स्थान पर जाकर आम श्रद्धालू के तौर पर नतमस्तक हों और बहादुर सिखों को श्रद्धा और सत्कार भेंट करें। जि़क्रयोग्य है कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में पंजाब सरकार ने इस फ़ैसले पर चलते हुए बीते साल भी माघी के पहले दिन राज्य स्तरीय समागम नहीं किया था। इसी दौरान सूबा सरकार और कांग्रेस पार्टी ने इस साल दसवीं पातशाही श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी के छोटे साहिबज़ादे बाबा जोरावर सिंह जी और बाबा फतेह सिंह जी और उनकी माता गुजरी जी के शहादत दिवस को समर्पित शहादत जोड़ मेल के मौके पर राज्य स्तरीय समागम /कान्फ्ऱेंस नहीं की थी। इसी दौरान मुख्यमंत्री ने श्री मुक्तसर साहिब के डिप्टी कमिशनर और जि़ला पुलिस प्रमुख को 14 जनवरी, 2019 को माघी के पहले दिन के मौके पर अमन -कानून की व्यवस्था यकीनी बनाने के लिए ज़रुरी कदम उठाने के हुक्म दिए जिससे देश -विदेश से आने वाली संगत को पवित्र स्थान पर नतमस्तक होने में कोई मुश्किल पेश न आए।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments