हरियाणा के 4463 गांवों और 9 जिलों में मिल रही है 24 घंटे बिजली

0
228

हरियाणा के 4463 गांवों और 9 जिलों में मिल रही है 24 घंटे बिजली
पहली जुलाई 2015 को कुरूक्षेत्र के दयालपुर गांव से
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शुरू की थी म्हारा गांव, जगमग गांव योजना
म्हारा गांव, जगमग गांव योजना के तहत गांवों में सभी पुरानी बिजली की तारों की जगह नई एरियल बंच केबल लगाई जाती है, पुराने व खराब मीटरों को बदला जाता है
ग्रामीण उपभोक्ता अपने पुराने बिजली बिलों का भुगतान करके इस स्मीम में अपना पूरा सहयोग देते हैं, आज हरियाणा के 65 प्रतिशत गांव म्हारा गांव, जगमग गांव योजना के साथ जुड़ चुके हैं
चंडीगढ़, 25 जनवरी – हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गणतंत्र दिवस के मौके पर ग्रामीणों को मनोहर तोहफा दिया है। गणतंत्र दिवस से हरियाणा की बिजली वितरण कंपनी उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम (यूएचबीवीएन) और दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम (डीएचबीवीएन) ने और 201 गांवों को 24 घंटे बिजली की आपूर्ति शुरू कर दी है। इससे अब प्रदेश के 4463 गांवों में 24 घंटे बिजली मिल रही है यानि प्रदेश के 65 प्रतिशत गांव पूरी तरह से जगमग हो गए हैं।
यूएचबीवीएन द्वारा 528 फीडरों के अंर्तगत 2637 गांवों में 24 घंटे
बिजली की सप्लाई की जा रही है। जिसमें अंबाला सर्कल के 615, कुरुक्षेत्र सर्कल के 412, करनाल सर्कल के 408, यमुनानगर सर्कल के 920, पानीपत सर्कल के 20, सोनीपत सर्कल के 66, कैथल सर्कल के 165, रोहतक सर्कल के 10 और झज्जर सर्कल के 21 गांव शामिल हैं। इसी प्रकार , डीएचबीवीएन के 520 फीडरों के अंर्तगत 1826 गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति की जा रही है। जिसमें गुरुग्राम सर्कल के 250, फरीदाबाद सर्कल के 135, सिरसा सर्कल के 354, रेवाड़ी सर्कल के 418, फतेहाबाद सर्कल के 300, नारनौल सर्कल के 187, भिवानी सर्कल के 134, हिसार सर्कल के 43, पलवल सर्कल के 3 , जींद व मेवात सर्कल के एक-एक गांव शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि 1 जुलाई 2015 को कुरूक्षेत्र जिले के दयालपुर गांव से मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने म्हारा गांव, जगमग गांव योजना की शुरूआत की थी। इस योजना के तहत गांवों में सभी पुरानी बिजली की तारों की जगह नई एरियल बंच केबल लगाई जाती है, पुराने व खराब मीटरों को बदला जाता है, ग्रामीणों से बकाया बिजली बिलों का भुगतान करने का आग्रह किया जाता है, लाइन लॉस कम होते ही उस गांव को तुरंत म्हारा गांव, जगमग गांव योजना में शामिल कर गांव में बिजली का नया इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर दिया जाता है और फिर ग्रामाणों को 24 घंटे निर्बाध बिजली की सप्लाई शुरू हो जाती है। इसके बाद गांवों में ट्रांसफार्मरों का भी कम से कम नुकसान होता है साथ ही बिजली आपूर्ति में किसी प्रकार का कोई अवरोध नहीं होता।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ग्रामीण बिजली उपभोक्ताओं का आहवान करते हुए कहा कि म्हारा गांव, जगमग योजना के तहत मात्र कुछ औपचारिकताएं पूरी करके ग्रामीण बिजली उपभोक्ता इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। उसके बाद यह बिजली वितरण कंपनियों का दावा है कि आपको 24 घंटे निर्बाध बिजली की सप्लाई सुनिश्चित की जाएगी।
प्रदेश के पचंकूला, अंबाला, कुरुक्षेत्र, यमुनानगर, गुरुग्राम, फरीदाबाद, सिरसा, रेवाड़ी और फतेहाबाद ऐसे जिले हैं जहां 24 घंटे बिजली की आपूर्ति की जा रही है। ग्रामीण बिजली उपभोक्ताओं को शहर के लोगों की तरह 24 घंटे बिजली मिले इसके लिए यह योजना शुरू की गई थी, जिसके अब बहुत अधिक उत्साहवर्धक परिणाम सामने आए हैं। हरियाणा के 4463 गांवों और 9 जिलों में मिल रही है 24 घंटे बिजली
-पहली जुलाई 2015 को कुरूक्षेत्र के दयालपुर गांव से
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शुरू की थी म्हारा गांव, जगमग गांव योजना
-म्हारा गांव, जगमग गांव योजना के तहत गांवों में सभी पुरानी बिजली की तारों की जगह नई एरियल बंच केबल लगाई जाती है, पुराने व खराब मीटरों को बदला जाता है
-ग्रामीण उपभोक्ता अपने पुराने बिजली बिलों का भुगतान करके इस स्मीम में अपना पूरा सहयोग देते हैं, आज हरियाणा के 65 प्रतिशत गांव म्हारा गांव, जगमग गांव योजना के साथ जुड़ चुके हैं
चंडीगढ़, 25 जनवरी – हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गणतंत्र दिवस के मौके पर ग्रामीणों को मनोहर तोहफा दिया है। गणतंत्र दिवस से हरियाणा की बिजली वितरण कंपनी उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम (यूएचबीवीएन) और दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम (डीएचबीवीएन) ने और 201 गांवों को 24 घंटे बिजली की आपूर्ति शुरू कर दी है। इससे अब प्रदेश के 4463 गांवों में 24 घंटे बिजली मिल रही है यानि प्रदेश के 65 प्रतिशत गांव पूरी तरह से जगमग हो गए हैं।
यूएचबीवीएन द्वारा 528 फीडरों के अंर्तगत 2637 गांवों में 24 घंटे
बिजली की सप्लाई की जा रही है। जिसमें अंबाला सर्कल के 615, कुरुक्षेत्र सर्कल के 412, करनाल सर्कल के 408, यमुनानगर सर्कल के 920, पानीपत सर्कल के 20, सोनीपत सर्कल के 66, कैथल सर्कल के 165, रोहतक सर्कल के 10 और झज्जर सर्कल के 21 गांव शामिल हैं। इसी प्रकार , डीएचबीवीएन के 520 फीडरों के अंर्तगत 1826 गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति की जा रही है। जिसमें गुरुग्राम सर्कल के 250, फरीदाबाद सर्कल के 135, सिरसा सर्कल के 354, रेवाड़ी सर्कल के 418, फतेहाबाद सर्कल के 300, नारनौल सर्कल के 187, भिवानी सर्कल के 134, हिसार सर्कल के 43, पलवल सर्कल के 3 , जींद व मेवात सर्कल के एक-एक गांव शामिल हैं।
उल्लेखनीय है कि 1 जुलाई 2015 को कुरूक्षेत्र जिले के दयालपुर गांव से मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने म्हारा गांव, जगमग गांव योजना की शुरूआत की थी। इस योजना के तहत गांवों में सभी पुरानी बिजली की तारों की जगह नई एरियल बंच केबल लगाई जाती है, पुराने व खराब मीटरों को बदला जाता है, ग्रामीणों से बकाया बिजली बिलों का भुगतान करने का आग्रह किया जाता है, लाइन लॉस कम होते ही उस गांव को तुरंत म्हारा गांव, जगमग गांव योजना में शामिल कर गांव में बिजली का नया इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर दिया जाता है और फिर ग्रामाणों को 24 घंटे निर्बाध बिजली की सप्लाई शुरू हो जाती है। इसके बाद गांवों में ट्रांसफार्मरों का भी कम से कम नुकसान होता है साथ ही बिजली आपूर्ति में किसी प्रकार का कोई अवरोध नहीं होता।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ग्रामीण बिजली उपभोक्ताओं का आहवान करते हुए कहा कि म्हारा गांव, जगमग योजना के तहत मात्र कुछ औपचारिकताएं पूरी करके ग्रामीण बिजली उपभोक्ता इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। उसके बाद यह बिजली वितरण कंपनियों का दावा है कि आपको 24 घंटे निर्बाध बिजली की सप्लाई सुनिश्चित की जाएगी।
प्रदेश के पचंकूला, अंबाला, कुरुक्षेत्र, यमुनानगर, गुरुग्राम, फरीदाबाद, सिरसा, रेवाड़ी और फतेहाबाद ऐसे जिले हैं जहां 24 घंटे बिजली की आपूर्ति की जा रही है। ग्रामीण बिजली उपभोक्ताओं को शहर के लोगों की तरह 24 घंटे बिजली मिले इसके लिए यह योजना शुरू की गई थी, जिसके अब बहुत अधिक उत्साहवर्धक परिणाम सामने आए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here