CBI Vs ममता: सीबीआई की टीम को हिरासत में लेने से सीएम के धरने तक, जानें सबकुछ

0
349

ऑय 1 न्यूज़ 4 फरवरी 2019 (रिंकी कचारी) केन्द्र और पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के बीच यह विवाद तब शुरू हुआ जब शारदा चिटफंड घोटाले में आरोपी पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई की टीम को हिरासत में ले लिया गया. हालांकि, बाद में सीबीआई अधिकारियों को छोड़ दिया गया.
कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और पीएम मोदी के बीच जारी सियासी जंग अब सड़क पर आ गई है. सीबीआई पर केंद्र की शह पर काम करने का आरोप लगाते हुए कोलकाता में ममता बनर्जी धरने पर बैठ गई हैं. केन्द्र और पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के बीच यह विवाद तब शुरू हुआ जब शारदा चिटफंड घोटाले में आरोपी पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई की टीम को हिरासत में ले लिया गया.

हालांकि, बाद में इन अधिकारियों को छोड़ दिया गया. सीबीआई की कार्रवाई के बाद ममता बनर्जी के अनशन को विपक्ष का जबरदस्त समर्थन मिल रहा है. राहुल गांधी समेत विपक्ष के कई बड़े नेताओं ने ममता का समर्थन करते हुए पीएम मोदी के खिलाफ जोरदार आवाज उठाई है. यहां जानें पश्चिम बंगाल में हुए सीबीआई विवाद पर कब क्या हुआ.

CBI Vs ममता बनर्जी: सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- कल करेंगे सुनवाई
रविवार शाम करीब 6 बजे सीबीआई की टीम कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंची. इसके तुरंत बाद करीब 6.02 बजे पश्चिम बंगाल पुलिस की टीम भी पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंच गई. पुलिस के राजीव कुमार के घर पहंचते ही सीबीआई की टीम को हिरासत में ले लिया गया.

इसके बाद सीबीआई अधिकारियों और पुलिस के बीच कहासुनी शुरू हो गई जो कि लगभग 15 मिनट तक चली. इसके बाद साढ़े छह बजे के आसपास पश्चिम बंगाल पुलिस ने जबरन सीबीआई अधिकारियों को गाड़ी में बिठा लिया. इस घटना के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 6 बजकर 40 मिनट पर पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंचीं.

CBI vs ममता बनर्जी: पश्चिम बंगाल समेत इन राज्यों में सीबीआई की ‘खुली एंट्री’ पर है प्रतिबंध
शाम सात बजे के आसपास यह मामला और बढ़ गया और पश्चिम बंगाल पुलिस ने सीबीआई के दो ऑफिस सीजीओ कंप्लैक्स और निजाम पैलेस को घेर लिया. इसी वक्त पुलिस के बड़े अधिकारी और डीजी कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंचे जहां सीएम ममता बनर्जी पहले से मौजूद थीं. वहां इन लोगों के बीच बैठक चलती रही.

इसके बाद ममता बनर्जी ने पुलिस कमिश्नर के घर से ही प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने वहीं से सीबीआई कार्रवाई के विरोध में धरना देने का एलान किया. इन सबके बीच रात के साढ़े आठ बजे सीआरपीएफ की टीम को मौके पर बुलाया गया और फिर सीआरपीएफ ने सीजीओ कंप्लैक्स और निजाम पैलेस को अपने कब्जे में ले लिया.

ममता बनर्जी Vs CBI: विवादों के बीच ऋषि कुमार शुक्ला ने लिया सीबीआई निदेशक का चार्ज
रात के साढ़े आठ बजे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी धरने पर बैठ गईं. इसी दौरान रात के 8.45 बजे सीबीआई अधिकारियों को पुलिस हिरासत से छोड़ा गया. इसके बाद पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार उस पुलिस स्टेशन गए जहां सीबीआई के अधिकारियों और कर्मचारियों को हिरासत में रखा गया था. इसके बाद पुलिस कमिश्नर सीएम ममता बनर्जी के धरना स्थल पर गए.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी धरने पर होने के कारण आज विधानसभा में पेश होने वाले बजट में नहीं जा पाएंगी और बजट से पहले धरना स्थल पर ही कैबिनेट की बैठक करेंगी. वहीं, पुलिस अफसर पर सीबीआई के आक्रामक रुख के विरोध में ममता बनर्जी ने सुप्रीम कोर्ट का रुख करने का फैसला किया है. सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम में आज सुनवाई हुई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here