पंजाब खाद्य एवं सिविल स्पलाई विभाग द्वारा जाली बिल काटने वाले मिल मालिकों के विरुद्ध की जायेगी अपराधिक कार्यवाही

0
372
आई 1 न्यूज़ 6 अक्तूबर 2018  पंजाब खाद्य एवं सिविल स्पलाई विभाग द्वारा जाली बिल काटने वाले मिल मालिकों के विरुद्ध की जायेगी अपराधिक कार्यवाही आशू संगरूर में ग़ैरकानूनी ढंग से जमां किये चावलों की 21,728 बोरियाँ हुई बरामद मौजूदा खरीफ सीजन में खऱीद प्रक्रिया के दौरान ग़ैरकानूनी ढंग से चावलों की जमाखोरी करने वाले मिल मालिकों को गंभीरता से लेते हुए पंजाब के खाद्य एवं सिविल स्पलाई मंत्री भारत भूषण आशु ने कहा कि बार -बार चेतावानी और अपील करने के बावजूद भी ऐसे बुरे धंधे करने वाले लोगों ने बुराई का रास्ता नहीं छोड़ा है और परिणामस्वरूप उन्होंने स्वयं ही अपने विरुद्ध कड़ी कार्यवाही को न्योता दिया है। उन्होंने कहा कि हमने मंडी बोर्ड और सेल्स टैक्स विभाग को कार्यवाही करने के लिए लिखा है और जल्द ही दोषियों के खि़लाफ़ कड़ी कार्यवाही की जायेगी। इससे पहले विभाग के मुख्य विजीलैंस अफ़सर के नेतृत्व में खाद्य एवं सिविल स्पलाई की टीमों द्वारा संगरूर में स्थित 5 मिलों में छापेमारी की गई जिसके दौरान पिछले साल के चावलों की 21,728 बोरियाँ जोकि मौजूदा खऱीद प्रक्रिया के दौरान बेचने के इरादे से जमा की गई थीं, बरामद की गईं। इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए मुख्य विजीलैंस अफ़सर डॉ. राकेश कुमार सिंगला ने बताया कि ऐसे नाजायज चावलों की 9325 बोरियाँ शिवा राईस एंड जनरल मिल्लज़ से, 3852 बोरियाँ दुग्गन राईस मिल, 1193 बोरियाँ  रामा राईस मिल, 2810 बोरियाँ पंजाब पेपर बोर्ड राईस मिल्लज़, 1500 तृष्ला फूड और 3084 बोरियाँ बांसल एग्रो नाम की मिल से बरामद हुर्इं। एक विशेष इनपुट साझा करते हुए  सिंगला ने बताया कि जांच टीमों से बचने के लिए कई मिल मालिकों द्वारा एक दूसरे को खऱीद-फऱोख्त के जाली बिल देने की अनोखा खेल भी खेला जा रहा था जिससे इस सारी ज़ालसाजी को जायज दिखाया जा सके। संगरूर की छापेमारी के बाद ऐसे जमाखोरों द्वारा नाजायज स्टॉक जमा करने के लिए मिलों, किराय के गोदामों और पशु शालाओं जैसे गुप्त ठिकानों के बाद नये ठिकाने ‘कोल्ड स्टोर’ की भी बात सामने आई है। उन्होंने बताया कि मलेरकोटला के एक कोल्ड स्टोरेज के बाहर से चावलों की 350 बोरियाँ और ‘चावल का टोटा’ (चावलों का टुकड़ा) की 350 बोरियों से भारे दो ट्रक देखे गए परन्तु इस सम्बन्धी कोई पुख़ता जानकारी टीम के हाथ नहीं लग सकी और सम्बन्धित मिल मालिक की खोज जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here