अकाली दल भाजपा गठबंधन का एक प्रतिनिधिमंडल पंजाब के राज्यपाल से मिला |

0
550

आई 1 न्यूज़ 9 अगस्त 2018 ( अमित सेठी ) अकाली दल भाजपा गठबंधन का एक प्रतिनिधिमंडल जस्टिस मेहताब गिल को लोकपाल के तौर पर नियुक्ति के विरोध में और सिर्फ महिलाओं को चंडीगढ़ में दोपहिया वाहनों पर हेलमेट जरूरी किए जाने के विरोध में राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर से मिला और मांग की जस्टिस मेहताब के पूरी तरह से कांग्रेसी है और वह सही फैसले नहीं लेंगे क्योंकि उन्हें भ्रष्टाचार पर एक्शन लेने के लिए बनाया गया है ऐसे में वह तो विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं के ऊपर कार्यवाही करेगा इसलिए ऐसे व्यक्ति की नियुक्ति की जानी चाहिए थी जो पक्षपात ना करें इसके अलावा सिख महिलाओं के हेलमेट अनिवार्य किए जाने के फैसले का विरोध कर रहे हैं और मांग कर रहे हैं कि इससे सिर्फ भावनाएं आहत हो रही है और इस पर पुनर्विचार किया जाना चाहिए। शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सरदार सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि नए लोकपाल की नियुक्ति भ्रष्टाचार पर कार्यवाही करने के लिए की गई है लेकिन मुख्यमंत्री ने जिस रिटायर जज को लोकपाल बनाया है वह कांग्रेस के समर्थन करते हैं जस्टिस मेहता वो शख्स है जो हार्डकोर कांग्रेस सदस्य हैं और कांग्रेस मेनिफेस्टो कमेटी में जस्टिस मेहताब गिर भी शामिल थे जब जज भी थे तब भी उस समय शिरोमणि अकाली दल भाजपा का अगर कोई मामला होता तो उस उस समय भी पक्षपात करते थे यहां तक कि रवि सिद्धू मामले में भी जस्टिस मेहताब गिलकी शमूलियत रही है दो दिल के बेटे को भी सरकार ने आर्डर दिया है जिस के संबंध में राज्यपाल को मांग पत्र दिया गया है और जिस तरह से सरकार कमिश्नर का इस्तेमाल कर रही है उस पर भी कार्यवाही करने की मांग की है । उन्होंने कहा कि अकाली दल भाजपा शुरुआत से ही जस्टिस रंजीत मेहता गिल के कमीशन को नहीं मानते हैं और उनकी किसी भी तरह की रिपोर्ट को स्वीकार नहीं करती है। पंजाब के मौजूदा लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति पर बोलते हुए बादल ने कहा कि जो हालात पंजाब में है वह बेहद ही संवेदनशील और नाजुक मुद्दा है पंजाब पुलिस के कंट्रोल में अब कुछ भी नहीं है वही जो पटियाला के सनौर में सिर्फ युवाओं के साथ मुख्य तौर पर सिख युवकों के साथ टॉर्चर हुआ है और थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया गया है वह बेहद ही निंदनीय योग है जो कि साफ जाहिर करता है कि कैप्टन सरकार का कोई कंट्रोल पुलिस पर नहीं है मुख्यमंत्री नाम की कोई चीज ही नहीं बची है यहां तक कि छोटी-छोटी बच्चियों के रेप हो रहे हैं और जब तक यह सरकार रहेगी तब तक हालात और खराब होते रहेंगे चंडीगढ़ प्रशासन ने महिलाओं को हेलमेट पहनने की बात तो सही है लेकिन वह सिख मर्यादाओं के खिलाफ क्योंकि सिख महिलाओं को हेलमेट से छूट तो विदेशों में भी है और हम ने मांग की है कि सिखों की मर्यादाओं को देखकर छूट दी जाए। उन्होंने कहा कि यह जरूरी नहीं है कि जो दस्तार डालते है केवल वही सिख है  जो दस्तार नहीं डालती है वह भी तो सिख है कहलाए जाती है  आम आदमी पार्टी के हालातों को लेकर सरदार सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि आज जो पार्टी के हालात है अकाली दल तो पहले दिन से कहते आ रहा है कि उन लोगों की पार्टी है जिनकी कोई आइडियोलॉजी नहीं है हमने तो पहले कहा था कि पैसे देकर टिकट दी गई है तब सुखपाल खैहरा कहते थे कि ऐसा नहीं है सुखपाल खैरा साहब अपनी ही पार्टी के महिलाओं के लिए जो भाषा का इस्तेमाल करते हैं वह गलत है वह सिर्फ कुर्सी के लिए यह सब कह रहे हैं सरदार सुखबीर सिंह बादल ने सुखपाल खैहरा पर निशाना साधते हुए कहा कि उनकी हिस्ट्री देख लो वह नंबर वन बनकर रहना चाहते हैं अकाली दल में भी ऐसे ही थे कांग्रेस में भी ऐसे ही थे और अब आम आदमी पार्टी में भी उन्होंने अपना रूप दिखाना शुरू कर दिया है ।बैंस ब्रदर पार्टी को सुखबीर बादल ने मोहल्ला एक पार्टी है और ऐसे ही अब खैर भी ऐसी ही पार्टी बनाना चाह रहे है। सुखबीर बादल ने साफ किया कि सुखपाल खैहरा को अपनी पार्टी मिलाकर पार्टी का नुकसान नहीं करना है । सुखबीर बादल ने कहा कि आप पार्टी का मकसद था कि हम सरकार बना लेंगे और मैं कहता था कि बहुत अच्छा हुआ कि पंजाब बच गया और यह लोग सत्ता में नहीं आए ।रंजीत सिंह कमिशन की रिपोर्ट को उन्होंने कहा कि उसे फाड़ कर कूड़ेदान में डाला जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here