अविनाश सिंह शर्मा के अनुसार चंडीगढ़ के प्रशासन मोबाइल टावर स्कूलों में लगवा कर देश विरोधी चेहरा देखा रहा है |

0
535

आई 1 न्यूज़ 9 जुलाई 2018 ( अमित सेठी )  संस्था चंडीगढ़ की आवाज के चेयरमैन अविनाश सिंह शर्मा और महामंत्री कमल किशोर शर्मा की अगुवाई में दर्जनों नौजवानों का एक प्रतिनिधिमंडल स्कूलों में लग रहे मोबाइल टावर के विरोध में डिप्टी कमिश्नर अजीत बालाजी जोशी से मिलकर मांग पत्र दिया । 5 जुलाई 2018 को मौली जागरण की सरकारी हाई स्कूल में लग रहे मोबाइल टावर को लेकर पुलिस में डीडीआर दर्ज करवा कर चंडीगढ़ की आवाज के कार्यकर्ताओं ने रुकवा दिया था । और डिप्टी कमिश्नर अजीत बालाजी जोशी को मांग पत्र दिया गया था । और देश के भविष्य बच्चों को बीमार करने वाले मोबाइल टावर को हटवाने और लग रहे मोबाइल टावर को रुकवाने की प्रार्थना की गई थी । डिप्टी कमिश्नर द्वारा मोबाइल टावर रूकवाने का आश्वासन दिए जाने के बाद भी जोर शोर से विभिन्न स्कूलों में तेजी से लग रहे है | मोबाइल टावर के बारे में आज लिखित पत्र दूसरी बार देकर रुकवाने का अनुरोध किया गया । अगर अभी भी करवाई नहीं हुई तो मजबूर होकर उच्च न्यायालय से लेकर सर्वोच्च न्यायालय तक आवाज को पहुंचा कर देश के भविष्य मासूम बच्चों को बीमार करने वाले मोबाइल टॉवरों को उतरवा कर ही दम लेंगे। अविनाश सिंह शर्मा ने बताया कि चंडीगढ़ की भाजपा सांसद श्रीमती किरण खेर और पूर्व सांसद पवन बंसल की मोबाइल टॉवरों पर चुप्पी दोनों की मौन सहमति मौन स्वीकृति को दर्शाता है । भाजपा कांग्रेस के नेता चाहते हैं कि बच्चे अनपढ़ रहे मानसिक रूप से बीमार रहेंगे । तो उनका शोषण उत्पीड़न चलता रहेगा । देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी के रिलायंस जिओ के मोबाइल टावर यह दर्शाती है कि देश के भविष्य बच्चों को बीमार कर उनके टावर को स्थापित करवाकर सरकार और सांसद, पूर्व सांसद रिलायंस के पक्ष में खड़े हैं । महामंत्री कमल किशोर शर्मा ने कहा कि संगठन लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाना जानता है । संगठन भारत सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट इंडिया में लड़ाई जीत कर दो नए कानून बनवाने के मार्ग को प्रशस्त किया है । चंडीगढ़ शहर के हित के लिए “चंडीगढ़ की आवाज” चंडीगढ़ की जनता के पक्ष में खड़ी है प्रशासन कुंभकर्णी निद्रा से नहीं जगी , तो एक विशाल आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा | इस मौके पर संगठन के रामधन सोनी ,पाटन दीन गुप्ता , सुमेर , आजाद , आदित्य कुमार, अनंत कुमार ,जितेंद्र आदि साथी साथ थे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here