सौतेली माँ और पिता के अत्याचारों  से ग्यारह वर्षीय बच्ची ने छोड़ा घर 

0
905

ऑय 1 न्यूज़ 20 अप्रैल 2018 सौतेली माँ और पिता के अत्याचारों  से ग्यारह वर्षीय बच्ची ने छोड़ा घर रोते बिलखते हुए सोलन के फारेस्ट रोड पर लोगों से मांग रही थी काम महिलाओं ने रात को बच्ची को अकेला देख  घर में दी शरण सुबह पुलिस को की शिकायत बच्ची के शरीर पर घावों के निशान पिता और सौतेली मां के अत्याचारों की दे रहे गवाही | सोलन के फारेस्ट रोड पर रात को एक ग्यारह वर्षीय बच्ची रोते हुए लोगों से काम मांग रही थी | वहां से गुजर रही महिलाओं की नजर उस बच्ची पर पड़ी तो उन्होंने बच्ची को अकेला देख कर उसे रात को अपने घर में शरण दी उसे नहलाया धुलाया और भूख से बिलखती बच्ची को खाना खिलाया और उस से रात को काम मांगने की वजह पूछी तो मालूम पड़ा कि बच्ची अपनी सौतेली मां और पिता की मार की डर से गिरिपुल से बस में बैठ कर 25 किलोमीटर दूर सोलन आई है |

 पीड़ित बच्ची ने बताया कि उसकी माता की मृत्यु हो चुकी है और पिता ने दूसरी शादी कर ली है और जब से सौतेली मां घर पर आई है तब से पिता का व्यवहार भी उसके प्रति बदल गया है और वह उस से रोज़ मारपीट करते है और उन्होंने उसे यह कह कर घर से बाहर निकाल दिया है कि अगर वह दोबारा घर में घुसी तो उसे बेहद मार पड़ेगी और उसे जिंदा नहीं छोड़ेंगे | इस लिए वह अपने घर से भाग कर सोलन आ गई और यहाँ काम की तलाश कर रहे है जब उस से पुछा गया कि वह घर जाना चाहती है तो उसने  मार की वजह से घर जाने से साफ़ इनकार कर दिया |
बाईट पीड़ित बच्ची
वहीँ बच्ची के लिए मसीहा बनी महिलाओं ने कहा कि रात को उन्होंने बच्ची को देखा तो वह भूख से बेहाल थी और वह काम मांग रही थी तो उन्होंने बच्ची को अकेला पा कर उसे अपने घर में रख लिया और उस से काम मांगने की वजह पूछी तो बच्ची ने बताया कि पिता ने दूसरी शादी कर  ली है तब से वह उस से मारपीट कर रहे है यहाँ तक की एक दिन तो उस के सर पर हथौड़े से भी चोट की गई जिसके बाद उसके सर पर टाँके तक आए थे अब भी बच्ची के शरीर पर चोटें लगी हुई है इस लिए सहमी हुई बच्ची घर वापिस जाना नहीं चाहती है |
बाईट मददगार महिला

इस घटना में सुखद बात यह रही कि बच्ची को समय रहते हुए महिलाओं ने देख लिया अगर बच्ची किसी अनजान सक्ष के हत्थे चढ़ जाती तो यह एक बड़ी घटना हो सकती थी | फिलहाल बच्ची को पुलिस के हवाले कर दिया है और बच्ची के परिजनों से सम्पर्क साधने की कोशिश की जा रही है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here