शिलाई विकास खंड के सतौन तिब्बती सेटलमेंट में स्थानीय लोगों और तिब्बतियों के बीच खूनी संघर्ष

0
555

जिला सिरमौर के थाना पांवटा साहिब के अंतर्गत शिलाई विकास खंड के सतौन तिब्बती सेटलमेंट में स्थानीय लोगों और तिब्बतियों के बीच खूनी संघर्ष हुआ है। बीते रविवार की रात्रि और सोमवार सुबह हुए इस खूनी संघर्ष में 4 तिब्बती शरणार्थी और 3 स्थानीय ग्रमीण बुरी तरह घायल हुए है। जब्कि एक तिब्बती युवक की हालात अधिक गम्भीर होने से उसे पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया है। दोनों समुदाययों के बीच झगड़े की शुरुआत बीती रविवार की रात को एक ढाबे पर हुई। यहां 7-8 तिब्बती युवक और दो स्थानीय युवक मिलकर शराब पी रहे थे। इस दौरान दोनों गुटों में किसी बात को लेकर कहा-सुनी हुई जोकि बाद में मारपीट में बदल गई। यहां तिब्बती युवकों ने स्थानीय युवकों को जमकर पीटा। इस मार का बदला लेने के लिए देर रात करीब 11 बजे ही स्थानीय युवक तिब्बती सेटलमेंट में घुस आये और एक तिब्बती युवक की बुरी तरह धुनाई कर डाली। उसके बाद आज सुबह काफी संख्या में स्थानीय लोगों ने तिब्बती युवकों की डण्डों और तेज़धार हथियारों से पिटाई की। उधर पावटा पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। मामले की गंभीरता को देखती हुए डीएसपी स्वत: मौके का मुआईना कर मामले की जांच में जुट गए हैं। उधर सूचना मिलते ही स्थानीय विधायक सुहराम चौधरी ने भी अस्पताल पहुंचकर घायलों का हाल जाना तथा पुलिस को मामले में निष्पक्ष जांच के आदेश दिये।

पांवटा साहिब थाना के अंतर्गत शिलाई के पहाडी क्षेत्र सतौन में तिब्बती समुदाय व स्थानीय बाशिंदों के बीच टकराव के बाद तनाव पनप गया है। टकराव में तिब्बती समुदाय के चार युवक गम्भीर रूप से घायल हुए हैं, जबकि सतौन के रहने वाले तीन युवकों को भी चोटें आई हैं। बताया जा रहा है कि बीती शाम सतौन में तिब्बती नव वर्ष और दीवाली के चलते कुछ तिब्बती युवक और स्थानीय युवक मिलकर शराब पी रहे थे। इस दौरान दोनों गुटों में किसी बात को लेकर कहा-सुनी हुई जोकि बाद में मारपीट में बदल गई। जिसके बाद तिब्बती युवकों ने स्थानीय युवकों मुकेश, सुनील और उनके साथी को पंच आदि हथियारों से जमकर पीटा और पास खडी सुनील की मोटर साइकिल भी तोड डाली। उसके बाद देर रात करीब 11 बजे तीन पिकप गाडियां भरकर लोग तिब्बती कालोनी में घुस आये और घर में सो रहे युवक टशी डौरजी को बुरी तरह पीट डाला। 2 दिन बाद तिब्बती धर्मगुरू स्तौन सेटलमेंट पहुंचने वाले हैं जिसके लिये आज सुबह से ही सफाई अभियान चलाया जा रहा था कि अचानक दरजनों स्थानीय लोगों ने पोका ग्राम व आसपास से यहां पहुंचकर तिब्बती युवकों की डंडों व अन्य हथियारों से खूब पिटाई की और तिब्बती लोगो6 के सभी सफाई तथा घास कटाई के औज़ार भी साथ ले गये। जिसमें चार तिब्बतियों खैम खटौक(24) पुत्र येमा सीरिंग, पैलडेआ(28) पुत्र लौबसैंग, सीरिंग वैंग्चंक(26) पुत्र स्व. लौडोऐ, टशी डौरजी(30) को काफी गहरी चोटें आई हैं। इसमें से तिब्बतियन सोसायटी के 24 वर्षीय खैम खटौक को गम्भीर हालत के चलते पीजीआई चण्डीगढ रैफर किया गया है। जबकि बाकी तीन का उपचार पांवटा अस्पताल में चल रहा है।
बाईट: तिब्बती युवक

उधर स्थानीय युवकों में सुनील व मुकेश को चोटें आई हैं। बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले भी स्थानीय लोगों की तिब्बती लोगों में झड़प हुई थी जिसके बाद बीते रात यह झड़प खूनी संघर्ष में बदल गई। वहीं स्थानीय युवक सुनील ने बताया कि बीती रात तिब्बती मूल के लोग अपने नववर्ष और दिवाली की खुशी में कहीं बैठे खा-पी रहे थे। जिसके बाद नशे की हालत में तिब्बती युवकों ने उनके साथ बदसलूकी कर उनकी मोटरसाईकल तोड दी और रोकने पर उन्होंने हाथापाई शुरू कर दी और पंच आदि हथियारों से मार कर उन्हें घायल कर दिया था। जिसके बाद गुस्साए स्थानीय युवकों ने जवाबी कारयवाही में तिब्बती लोगों की पिटाई कर डाली।
बाईट:- सुनील स्थानीय घायल युवक

वी.ओ:- आज सुबह तेजधार हथियारों से किए गए इस हमले में 4 लोग बुरी तरह से जख्मी हो गए हैं जिनके सर में गहरी चोटें और कई टांके आये हैं साथ ही बाजू व टांग में भी फैक्चर हो गऐ हैं। वहीं सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचकर पुलिस ने कार्यवाही शुरु कर दी है। मामले की गंभीरता को देखती हुए डीएसपी स्वत: मौके का मुआईना कर मामले की जांच में जुट गए हैं। प्रमोद चौहान ने बताया कि दोनों पक्षों की शिकायत अर क्रास एफाअईआर दर्ज कर मामले की छानबीन की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here