स्कूल प्रबंधन/स्टॉफ के खिलाफ छुआछूत मामला दर्ज : बच्चों से जातीय भेदभाव

0
413
ब्यूरो रिपोर्ट :22 फ़रवरी 2018
कुल्लू जिले की दुर्गम पंचायत शिल्ही राजगिरी के हाई स्कूल चेष्टा में जातीय भेदभाव मामले में न्यायिक जांच पूरी हो गई है। जांच रिपोर्ट में सोशल मीडिया में वायरल शिकायत और वीडियो सही पाए गए हैं। डीसी यूनुस ने आगामी कार्रवाई के लिए रिपोर्ट पुलिस विभाग और शिक्षा सचिव को भेजी है।

रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस थाना भुंतर में स्कूल प्रबंधन/स्टॉफ और एसएमसी अध्यापक मेहर चंद, मिड डे मील वर्कर दिला राम के खिलाफ छुआछूत अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। भुंतर पुलिस थाना में छुआछूत अधिनियम 2016 की धारा 3 (1) आर के तहत मामला दर्ज किया है।

मामले में अब राजपत्रित अधिकारी जांच करेगा। पुलिस की ओर से बयान दर्ज किए जाएंगे। सूत्रों की मानें तो मजिस्ट्रियल जांच में शिकायत में लिखे गए तथ्य सही पाए गए हैं। रिपोर्ट में बच्चों के साथ जातीय भेदभाव होने का खुलासा हुआ है। रिपोर्ट में बच्चों को घोड़ों को बांधने वाले स्थल के पास बैठाने के तथ्य सामने आए हैं।

यह है मामला

डीसी यूनुस ने बताया कि चेष्टा स्कूल मामले में मजिस्ट्रेट जांच रिपोर्ट आगामी कार्रवाई के लिए पुलिस विभाग और शिक्षा सचिव को भेज दी गई है। नियमानुुसार कार्रवाई अमल पर लाई जा रही है।

वहीं, एएसपी कुल्लू निश्चिंत सिंह नेगी ने बताया कि मजिस्ट्रेट जांच रिपोर्ट मिलने के बाद स्कूल प्रबंधन/स्टॉफ के खिलाफ छुआछूत अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। डीएसपी मनाली शेर सिंह को जांच का जिम्मा सौंपा गया है।

यह है मामला 
राजकीय हाई स्कूल चेष्टा में पीएम नरेंद्र मोदी के परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम को दिखाने के लिए एसएमसी अध्यक्ष के घर बच्चों को ले जाया गया। यहां एक जाति विशेष के बच्चों को अन्य बच्चों से दूर घोड़ों को बांधने वाली जगह के पास बैठाया गया।

इस संबंध में सोशल मीडिया पर एक वीडियो और शिकायत वायरल हुई। इस पर संज्ञान लेते हुए डीसी यूनुस ने मजिस्ट्रियल जांच बैठाई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here