जहां राजनीतिक पार्टियां बिखराव को समेट , वही कांग्रेस के भीतर दरारें और गहरी होती जा रही

0
509

 

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर जहां राजनीतिक पार्टियां बिखराव को समेट ही है वही कांग्रेस के भीतर दरारें और गहरी होती जा रही है l प्रदेश यूथ कांग्रेस के नवनियुक्त कार्यकारी अध्यक्ष मनीष ठाकुर ने पांवटा साहिब में कांग्रेस की भीतरी गुटबाजी को और हवा दी l हिमाचल प्रदेश यूथ कांग्रेस का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किये जाने के बाद पहली दफा यहां पहुंचे मनीष ठाकुर का करीब 2 दर्जन समर्थकों ने स्वागत किया। उसके बाद बिना किसी पूर्व सूचना के अचानक पत्रकार वार्ता का आयोजन किया गया, जिसमें एक सवाल के जबाब में उन्होंने स्पष्ट कहा कि बीते चुनाव में पावटा यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कोई तवज्जो नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि यूथ कांग्रेस ने अपना कार्य पूरी निष्ठा से किया परंतु स्थानीय कांग्रेस उम्मीदवार अपनी ऐंठ में ही रहे और किसी का साथ पसन्द नहीं किया जिसके परिणाम स्वरूप उन्हें करारी हार मिली।

मनीष ठाकुर ने कहा कि वोटिंग से 2 दिन पहले ही स्थानीय कांग्रेसी प्रत्याशी किरनेश जंग चौधरी ने उनसे आग्रह कर पावटा यूथ कांग्रेस के पदाधिकारियों के साथ बैठक की थी। परंतु हारने के बाद उन्होंने द्वेष भावना के चलते उनके नाम सहित 2 अन्य जिला व प्रदेश स्तरीय पदाधिकारियों के नाम अनुशासनहीनता के चलते निषकासन हेतु संगठन को भेजे, जोकि सरासर नाजायज़ है। वहीं पत्रकार वार्ता में ऐसा बयान देकर टिकट के लिए कांग्रेस के प्रत्याशी किरनेश जंग के विरोधी रहे मनीष ठाकुर ने पूर्व विधायक किरनेश जंग के साथ सुलह की संभावनाओं को विराम लगा दिया है। वहीं उसके बाद अल्पसंख्यक नेता इंतज़ार अली के निष्कासन बारे मनीष ठाकुर ने यह तक कह डाला कि कांग्रेस मण्डल द्वारा किसी रंजिश के चलते की गई यह कार्यवाही सरासर गलत है, जिसके लिये वह 22 फरवरी को प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू से मिलेंगे।

ऐसे में आगामी लोकसभा चुनाव में एकजुट होकर भाजपा को पछाड़ने की कांग्रेस की मुहिम का अंजाम क्या होगा इसका अंदाजा स्वत: ही लगाया जा सकता है। दरअसल पौंटा साहिब से विधानसभा चुनाव के लिए टिकट की लड़ाई में किरनेश जंग और मनीष ठाकुर को आमने सामने थे। लेकिन इस लड़ाई में किरनेश जंग ने बाजी मार ली थी। क्यास लगाए जा रहे थे कि लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस एकजुट होकर भाजपा के खिलाफ मैदान में उतरेगी लेकिन मनीष ठाकुर के ऐसे बयान इस धारणा को नकार रहे हैं। अब देखना यह होगा कि अपने ही कुनबे में गुटबाजी को हवा देने वाले बयान पर कांग्रेस आला कमान कोई एक्शन लेती है या अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी मनीष ठाकुर ऐसे ही स्वछंद रह कर बयानबाजी कर पार्टी को नुकसान पहुंचते रहेंगे।

इसके बाद स्थानीय मिनी सचिवालय चौक पर पीएनबी बैंक घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी सहित प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी के पुतले फूंके गये। पुलिस द्वारा पुतले छीनने और आग बुझाये जाने की कोशिश करे जाने के बाद भी प्रधानमंत्री सहित पुलिस व एसडीएम पांवटा के खिलाफ जमकर नारेबाज़ी की गई। इस दौरान कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महासचिव इंतजार अली, सचिव ओपी ठाकुर, लोकसभा महासचिव विनोद कंठ, महासचिव अत्तर कपूर ,लोकसभा सचिव दिनेश सिंगटा, सोशल मीडिया इंजार्ज सुनील चौहान सहित दर्जनों कार्यकर्ता मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here