पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को आश्वस्त कर दिया

0
453
गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन और उसके बाद राजस्थान व अन्य भागों में हुए उपचुनावों में मिली जीत से उत्साहित पार्टी पंजाब में लोकसभा चुनाव के दौरान शानदार जीत दर्ज करने की योजना बनाने लगी है। इसके लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को आश्वस्त कर दिया है कि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की पंजाब इकाई विजयी प्रदर्शन करेगी।

बुधवार को नई दिल्ली में कैप्टन अमरिंदर सिंह और राहुल गांधी के बीच हुई मुलाकात के दौरान आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पंजाब कांग्रेस की स्थिति पर गंभीरता से विचार-विमर्श हुआ और प्रदेश इकाई में नई जान फूंकने के लिए इसके पुनर्गठन का फैसला लिया गया। अब पार्टी इस दिशा में किस तरह आगे बढ़ेगी, इस विषय का खुलासा नहीं किया गया है। लेकिन बैठक का ज्यादा समय पंजाब कांग्रेस के संगठनात्मक ढांचे को चुस्त दुरुस्त करने और मजबूत बनाने पर ही केंद्रित रहा।

यह माना गया कि पंजाब कांग्रेस को अब इस ढंग से पुन: संगठित किया जाए कि उसका लक्ष्य और कामकाज आगामी लोकसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल करने पर केंद्रित रहे। बैठक में पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ और पंजाब मामलों संबंधी पार्टी की इंचार्ज आशा कुमारी ने भी हिस्सा लिया।

एआईसीसी का सत्र पंजाब में कराने पर भी हुआ विचार

इसके साथ ही बैठक में, कैप्टन अमरिंदर सिंह और राहुल गांधी ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) का अगला सत्र पंजाब में करवाने की संभावनाओं पर भी विचार किया, जो इस साल मार्च-अप्रैल में आयोजित किए जाने की उम्मीद है।

हालांकि एआईसीसी के आगामी सत्र के आयोजन को लेकर पंजाब के अलावा दिल्ली को भी विकल्प के रूप में देखा जा रहा है लेकिन इस संबंध में कैप्टन और राहुल गांधी की इस बैठक में कोई अंतिम फैसला नहीं लिया गया। अगर एआईसीसी के सत्र के लिए पंजाब को चुना जाता है तो यह इस सूबे के लिए पहला मौका होगा।

दरअसल एआईसीसी के लिए अपने राष्ट्रीय अधिवेशन के लिए अब तक दिल्ली और बंगलूरू मुख्य स्थल थे लेकिन कर्नाटक में इस साल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी के स्थानीय नेता अपने-अपने हलकों में व्यस्त हैं। ऐसे में पार्टी के लिए लोकसभा चुनाव में पंजाब इसलिए भी महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि यहां पिछले साल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए सत्ता में वापसी की है।

इससे पहले बुधवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ सूबेदार (सेवानिवृत्त) बीर सिंह के नेतृत्व में रिटायर्ड सैनिकों के पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने राहुल गांधी से मुलाकात की। यह सैनिक देश के विभिन्न हिस्सों से उनसे मिलने पहुंचे थे।

उन्होंने पंजाब विधानसभा चुनाव में मतदान से पहले आम आदमी पार्टी को छोड़कर पटियाला में दिल्ली से आप पार्टी के निलंबित विधायक मेजर दविंदर सहरावत के साथ कैप्टन अमरिंदर सिंह के लिए चुनाव प्रचार किया था। इन्होंने कांग्रेस में शामिल होने की इच्छा व्यक्त की, जिसका राहुल गांधी और कैप्टन अमरिंदर सिंह ने स्वागत किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here