डेरा सच्चा सौदा मामले में पुलिस की जांच और कोर्ट कमिश्नर की रिपोर्ट दोनों पर ही सवालिया निशान लग गए हैं ।

0
600
ऑय 1 न्यूज़ 6 फरवरी 2018 ( अमित सेठी)  डेरा सच्चा सौदा मामले में पुलिस की जांच और कोर्ट कमिश्नर की रिपोर्ट दोनों पर ही सवालिया निशान लग गए हैं । आज पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में इस मामले पर सुनवाई हुई जिसमें कोर्ट ने पुलिस को भी कड़ी फटकार लगाई ।  कोर्ट ने कहा कि लाखों का इनाम घोषित करने के बावजूद पुलिस फरार आरोपियों को नहीं पकड़ पाई है तो क्या अब इस मामले में पंजाब पुलिस को जिम्मेदारी सौंपनी पड़ेगी ? साथ ही साथ कोर्ट कमिश्नर की रिपोर्ट को लेकर भी हाई कोर्ट संतुष्ट नजर नहीं आई । कोर्ट कमिश्नर को 2 हफ्ते में सील्ड रिपोर्ट कोर्ट में सौंपने को कहा है । वहीं कोर्ट में 4 स्टेटस रिपोर्ट भी फाइल कि गई है । टाउन एन्ड कंट्री विभाग की तरफ से रिपोर्ट दी गई है जिसमे कहा गया है की कई अवैध बिल्डिंग है जिसकी  सीएलयू नहीं लिया गया । सिविल सर्जन सिरसा की तरफ से रिपोर्ट दी गई है जिसमे कहा गया है की स्किन बैंक को अवैध तोर पर चलाया जा रहा था जिसको गैरकानूनी तरीके से चलाया जा रहा था ।  डेरा सच्चा सौदा मुखी गुरमीत सिंह को दोषी ठहराने के बाद हिंसा में हुये नुकसान को लेकर पंजाब-हरियाणा हाइकोर्ट में आज फिर से सुनवाई हुई । फुल बैंच ने कोर्ट कमिश्नर से कई सवाल किए और जांच रिपोर्ट में कई तथ्य ना होने पर जवाब तलबी की उनके ठीक से जवाब नहीं मिलने पर को संतुष्ट नजर नहीं आई है । कोर्ट ने कहा कि डाटा यानी कि cd और pendrive से जुड़ा कोई सुझाव नही दिया गया । कोर्ट कमिश्नर ने कहा वो खुद इसके विशेषज्ञ नही है । दूसरी तरफ पुलिस भी डाटा रिकवर करने में हाथ खड़े कर चुकी है अब इस काम के लिए सीबीआई से मदद मांगी गई है । डेरे में खाली मिले नौकर और एक व्यक्ति द्वारा भारी मात्रा में कैश लेकर देरी से निकलने के सवाल पर भी कोर्ट में चर्चा हुई लेकिन कोई संतोषजनक जवाब कोर्ट कमिश्नर ऑफ पुलिस अधिकारी नहीं दे पाए । कोर्ट कमिश्नर ने कहा सिरसा डेरा की कई दीवारें देखकर लग रहा था कि कुछ रिमूव किया गया है । कई दरवाजे बैंक के स्ट्रांग रूम की तरह लग रहे थे । कोर्ट ने कहा यह सब रिपोर्ट में नही है । इसी तरह की जानकारी और सुझाव वो कोर्ट कमिश्नर से चाहते है इसके लिए दो हफ्ते में स्पलीमेंट्री रिपोर्ट  देने को कहा है । कोर्ट ने कोर्ट कमिश्नर ऐ के पंवार को कहा कि वो अपनी रिपोर्ट को री एक्सामिन करें और जो भी  चीज़ें है उनकी जानकारी दे । इसके साथ ही जो भी डेरा प्रेमिसेस में पॉसिबिलिटीस लगती है उसकी जानकारी कोर्ट में दे । कोर्ट कमिशनर ने जो भी डेरा में देखा , या पता लगा  है या जो भी पॉसिबिलिटीएस लगती है उसकी सील्ड रिपोर्ट 2 हफ्तों में कोर्ट में दे । वहीं याचिकाकर्ता वकील रविंद्र ढुल ने बताया की 65 हार्डडिस्क को लेकर चर्चा के दौरान आईटी हेड विनीत कुमार की तरफ से दिया गया बयान पढ़ा गया जिसमे लिखा था की  26 तारीख को डेरे से तीन ट्रक पैसो के भरकर बहार ले जाए गए थे । हालाकिं कोर्ट ने पुलिस से सवाल पूछा था की क्यों पैसे को रिकवर नहीं किया गया , इसपर एजी हरियाणा ने फिर से जाँच करने को कहा है । वहीं पुलिस की तरफ से बताया गया की  हार्ड डिस्क को रिकवर नहीं कर पाए है इसको लेकर सीबीआई की मदद मांगी गई है । पंचकूला हिंसा के दौरान गायब बाकी लोगो के मामले में जाँच रिपोर्ट देने को कहा गया है । कोर्ट ने राम रहीम को आरोपी न बनाने पर भी हैरानी जताई गई है । उन्होंने बताया की आदित्य इंसा को गिरफ्तार न कर पाने पर कोर्ट ने कहा है की 2 लाख से बढाकर 5 लाख कर दिया है बावजूद हरियाँ पुलिस इन्हे गिरफ्तार नहीं कर पा रही जबकि आरोपी बहुत बड़े प्रोफेशनल क्रिमिनल नहीं है। कोर्ट ने सवाल पूछा की क्या इसकी जाँच पंजाब पुलिस को दे दी जाए ।
बाइट – रविंद्र ढुल , याचिका करता वकील  हरियाणा के एजी बलदेव राज महाजन ने बताया की आज कोर्ट के आदेशों पर आज चार स्टेटस रिपोर दी गई है । एसआईटी के हेड से स्टेटस रिपोर्ट पूछी गई थी जिसमे मिसिंग लोगो के बारे में और बाकी मामले से संबधित जानकारी मांगी गई थी । वहीं अवैध निर्माण को लेकर भी स्टेसस रिपोर्ट मांगी गई थी इसके इलावा हॉस्पिटल के बारे में भी स्टेस्ट रिपोर्ट मांगी गई थी जो कोर्ट में दी गई है । ADGP पीके अग्रवाल ने कोर्ट में जो स्टेस्ट केसों से संबधित चल रहा है उसकी जानकारी अपनी रिपोर्ट दी है । वहीं मिसिंग लोगो के बारे में बताया गया है की 23 में से 6 को ट्रेस कर लिया गया है वहीं दो अन्य लोगो को भी ढूंढ लिया गया है । इसपर अगली तारीख पर कोर्ट ने स्टेस्ट रिपोर्ट मांगी है ।  स्टेटस रिपोर्ट में एसआईटी हेड ने बताया की राम रहीम अभी तक षड्यंत्र रचने का दोषी नहीं पाया गया है क्योंकि पकडे गए लोगो ने अभी तक राम रहीम की इसमें इंवोल्मेंट के बारे में स्पष्ट नहीं है । कोर्ट में सरकार ने बताया की   240 एफआईआर में से 203 केसो में  चालान पेश कर दिए गए है । 164 लोगो को अभी और गिरफ्तार किया जाना बाकी है जबकि 1464 लोगो की गिरफ्गतारी हो चुकी है ।  वहीं सीबीआई की मदद को लेकर महाजन ने बताया की पुलिस ने बताया की जो हार्ड डिस्क से डाटा रिकवर नहीं हो पाया है । हार्ड डिस्क की प्लेट डेमेज हो चुकी है इसके लिए सीबीआई से मदद मांगी गई है । सीबीआई से कहा है की इंटरनेशनल लेवल की एजेंसी के माधयम से मदद करे । इसपर अगली तारीख पर एसआईटी रिपोर्ट कोर्ट में देगी ।  
बाइट – बलदेव राज महाजन , एजी हरियाणा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here