शिक्षा मंत्री ने की जिला प्रशासन के 100 डेज़ एक्शन प्लान बैठक की अध्यक्षता

0
589

आई 1न्यूज़ :संदीप कश्यप

शिमला, 29 जनवरी

शिक्षा, विधि व संसदीय मामले मंत्री श्री सुरेश भारद्वाज ने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को निष्ठा, समर्पण और प्रतिबद्धता के साथ कार्य करने के निर्देश दिए हैं, ताकि व्यवस्था में गुणात्मक रूप से सुधार लाया जा सके। वह आज यहां बचत भवन में आयोजित जिला प्रशासन के ‘100 डेज़ एक्शन प्लान’ बैठक की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे।

श्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि लोकतंत्र में सभी का दायित्व जनता के प्रति है और सभी जनसेवक हैं, इसलिए हर कार्य विकास उन्मुख और समयबद्ध होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार सिर्फ राजनैतिक परिवर्तन नहीं है, बल्कि प्रदेश में नए युग का सूत्रपात हुआ है। प्रदेश सरकार द्वारा व्यवस्था परिवर्तन के लिए दृढ़ प्रयास किए जा रहे हैं, ताकि प्रदेश को विकास की नई ऊंचाईयों और बुलंदियों पर लेकर जा सकें। जन सेवा और उन्नति के लिए ‘वर्क कल्चर’ को बदलने की आवश्यकता है। वर्क कल्चर जन कल्याण पर आधारित होना चाहिए।

उन्होंने जिला प्रशासन को हर माह, दूर-दराज क्षेत्र की पंचायतों और पिछड़े क्षेत्रों में विशेष शिविर लगाने के निर्देश देते हुए कहा कि इन शिविरों में उपमण्डलाधिकारी, एडीएम, एडीसी और उपायुक्त भी हिस्सा लें, ताकि आमजन की समस्याओं को उनके घरद्वार के समीप ही अतिशीघ्र हल किया जाए। प्रशासन की कार्यप्रणाली में व अधिक दक्षता और पारदर्शिता लाई जाए।

शिक्षा मंत्री ने सभी उपमंडलाधिकारियों और जिला स्तर के अधिकारियों को उनके क्षेत्र में सरकारी कार्यालयों का नियमित रूप से निरीक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को पटवार सर्कलों का निरीक्षण करने को भी कहा। मनरेगा के तहत किए गए विकास कार्योंं की जियो टैगिंग करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि ई-परिवार रजिस्टर को पूर्ण करने का कार्य प्रथम अप्रैल तक पूर्ण कर लिया गया जाए। आजीविका अर्जन के लिए वोकेशनल ट्रेनिंग को विशेष महत्व देने के साथ-साथ स्कूलों में छात्रों के लर्निंग लेवल बढ़ाने के लिए विशेष कदम उठाने के निर्देश भी दिए।

श्री सुरेश भारद्वाज ने जिला में मुसाबी के 80 फीसदी कार्य का डिजिटलाईजेशन करने, उपमंडल तथा तहसील स्तर पर राजस्व रिकाॅर्ड रूम का अपगे्रडेशन करने तथा लंबित राजस्व मामलों को निपटाने के लिए त्वरित कदम उठाने के निर्देश भी दिए।

शिक्षा मंत्री ने ठियोग-हाटकोटी सड़क का निर्माण कार्य, सड़कों की मुरम्मत के लिए टैंडर कार्य समयबद्ध पूर्ण करने, विद्युत, जलापूर्ति तथा स्वच्छ पेयजल सुनिश्चित बनाने के लिए अधिकारियों को पर्याप्त कदम उठाने के निर्देश दिए।

उन्होंने आईजीएमसी शिमला के समीप मरीजों के लिए पार्किंग की व्यवस्था करने के लिए भी लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिए, साथ ही विद्युत बोर्ड को लोअर बाजार शिमला में बिजली की हैंगिंग तारों को व्यवस्थित करने के लिए उपाय करने को भी कहा।

श्री सुरेश भारद्वाज ने वन विभाग को पौधा रोपण के पश्चात रोपित पौधों की सुरक्षा व देखभाल के लिए समुचित कदम उठाने के निर्देश देते हुए कहा कि शिमला शहर के आसपास के क्षेत्रों में देवदार और बुरांस का पौधारोपण किया जाए।

शिक्षा मंत्री ने बागवानी विभाग को इस सीजन के दौरान बागवानों को प्रदान किए जाने वाले पौधों की पूर्ण विवरण प्रदान करने के साथ कृषि विभाग को भी किसानों द्वारा किए जा रहे कृषि उत्पादों का ब्योरा तैयार करने के निर्देश दिए।

शिक्षा मंत्री ने श्रम एवं रोजगार विभाग को चैपाल, शिमला तथा जिला के दूरदराज क्षेत्रों में रोजगार मेला लगाने तथा रोजगार कार्यालयों में पंजीकृत युवाओं के डाटा को अपडेट करने के निर्देश भी दिए।

उन्होंने नगर निगम शिमला तथा सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग को शहर में सभी हाईड्रेंट कार्यशील करने के लिए विशेष कदम उठाने के निर्देश भी दिए।

श्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि शिमला हिमाचल प्रदेश की राजधानी है, इसलिए यहां की व्यवस्थाओं का प्रभाव पूरे प्रदेश पर पड़ता है। सभी का यह दायित्व है कि विकास के लिए दृढ़ प्रयास करें और शिमला के गौरवशाली इतिहास को संजोकर रखें।

इस अवसर पर विधायक श्री बलवीर वर्मा ने चैपाल क्षेत्र में विकास से संबंधित विभिन्न मुद्दों के बारे में अवगत करवाया तथा निर्माण कार्यों में और तेजी लाने के लिए आग्रह किया।

उपायुक्त शिमला श्री अमित कश्यप ने मुख्य अतिथि का स्वागत करते हुए जिला प्रशासन के 100 डेज़ एक्शन प्लान के बारे में विस्तृत जानकारी दी।

अतिरिक्त उपायुक्त देवाश्वेता बनिक ने मुख्यातिथि का आभार व्यक्त किया।

इस अवसर पर विधायक श्री बलवीर वर्मा, उपायुक्त शिमला श्री अमित कश्यप, जिला पुलिस अधीक्षक श्री ओमापति जम्वाल, अतिरिक्त उपायुक्त देवाश्वेता बनिक, आयुक्त नगर निगम, श्री रोहित जम्वाल, एडीएम, उपमण्डलाधिकारी और विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here