पत्रकारिता के लिए निष्पक्षता, निर्भिकता, उदारता तथा पारदर्शिता की आवश्यकता-बडालिया

0
471
आई 1 न्यूज़ : संदीप कश्यप
नाहन 16 नवम्बर-
वर्तमान परिप्रेक्ष्य में पत्रकार की भूमिका न्यायाधीश की तरह बन गई है, जिसमें निष्पक्षता, निर्भिकता, उदारता तथा पारदर्शिता का होना अति आवश्यक है।
यह उदगार उपायुक्त सिरमौर श्री बीसी बडालिया ने आज यहां सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय प्रेस दिवस के उपलक्ष्य पर बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित मिडिया व अन्य अधिकारियों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए । इस अवसर पर भारतीय प्रेस परिषद द्वारा दिए गए विषय मिडिया के लिए चुनौतियां पर सामूहिक चर्चा की गई।
उन्होने कहा कि प्रेस  को लोकतंत्र का प्रहरी माना जाता है  और मिडिया कर्मी को समाचार लिखते समय निष्पक्ष रूप से अपने दायित्व का निर्वहन किया जाना चाहिए ताकि समाज में एक सकारात्मक संदेश पहुंच सके। उन्होने कहा कि समाचार पत्र समाज का आईना होता है जिसमें समाज की कार्यप्रणाली की भूमिका परिलक्षित होती है। उन्होने कहा कि सूचना का अधिकार अधिनियम के लागू होने से सरकारी कार्य में पारदर्शिता आई है तथा इस परिस्थिति में समाचार पत्रों का समाज के प्रति और भी दायित्व बढ़ गया है। उन्होने कहा कि समाचार पत्र में साकारात्मक पाठय सामग्री को प्रकाशित ंकिया जाना चाहिए क्योंकि ऐसी पत्रकारिता से समाज में साकारात्मक परिवर्तन आता है।
उपायुक्त ने कहा कि वर्तमान समय में पत्रकारिता का नया स्वरूप उभर कर सामने आया  है और पत्रकारिता  जन समस्याओं को सुलझाने में कारगर साबित हुई है। उन्होंने कहा कि आज के समय में मीडिया में विश्वसनीयता बहुत बड़ा प्रश्न है तथा किसी भी स्तर पर मीडिया की विश्वसनीयता कमजोर नहीं होनी चाहिए। उन्होने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का वह महत्वपूर्ण स्तम्भ है जिसकी वजह से लोकतंत्र की जड़ें निरन्तर मजबूत हुई है। मीडिया जहां जनता के प्रति जवाबदेही का साधन है, वहीं मीडिया प्रबन्धन को मीडिया कर्मियों के प्रति भी जवाबदेह रूख अपनाना होगा ताकि संस्थागत स्तरों पर भी लोकतंत्र मजबूत हो और हर स्तर पर जवाबदेही सुनिश्चित की जा सके।
उन्होने मिडिया से आग्रह किया कि समाज में फैली विभिन्न कुरितियों जैसे स्वच्छता, कन्या भू्रण हत्या, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, युवाओं में बढ़ती नशे की लत इत्यादि के उन्मूल्न के लिए प्रेस में सकारात्मक लेख प्रकाशित किए जाऐं ताकि लोगों में जागरूकता लाई जा सके और स्वस्थ समाज का निर्माण संभव हो सके । इसके अतिरिक्त विकासात्मक पत्रकारिता को भी प्रेस में उचित स्थान दिया जाना चाहिए ।
इससे पहले डीपी जोशी सेवा निवृत निदेशक सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग ने भी मिडिया के सामने चुनौतियांे के विषय पर अपने विचार साझा करते हुए बताया कि समाज में पत्रकारों का एक विशेष स्थान होता है। उन्होंने कहा कि किसी भी नाकारात्मक बात को इस ढंग से प्रकाशित करे की समाज में उसका साकारात्मक प्रभाव पड़े। उन्होंने बताया कि कोई भी समाचार प्रकाशित होने से पहले तथ्यों पर आधारित होना चाहिए।
 ज़िला लोक सम्पर्क अधिकारी बीआर चौहान ने मुख्यातिथि श्री बीसी बडालिया, उपायुक्त सिरमौर, विशेष अतिथि के रूप में श्री डीपी जोशी सेवानिवृत निदेशक सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग तथा पत्रकार संघ के अध्यक्ष श्री एसपी जैरथ को सम्मानित किया तथा प्रेस दिवस पर आए सभी मिडिया कर्मियों का स्वागत किया और प्रेस दिवस पर मिडिया के लिए चुनौती विषय के बारे में जानकारी दी । उन्होने जिला से संबधित सकारात्मक रिर्पोटिग करने के सभी मिडिया कर्मियों का आभार व्यक्त किया ।
इस अवसर पर प्रिंट इलेक्ट्रोनिक तथा सोशल मीडिया के जिला प्रेस क्लब के अध्यक्ष एसपी जैरथ, महासचिव सूरत पुंडीर, तथा विभिन्न समाचार पत्रों के ब्यूरो प्रमुख, अरूण साथी, रमेश पहाडिया, शैलेष सैनी, प्रताप सिंह, जितेन्द्र ठाकुर, सतीश कुमार, सहित अन्य संवाददाताओं ने भी अपने विचार रखे तथा चर्चा में भाग लिया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here