स्टार प्लस पर प्रसारित मेरी दुर्गा की मुख्य नायिका दुर्गा ने की चंडीगढ़ में हुई पत्रकारों से रूबरू

0
1096
today news in hindi chandigarh
चंडीगढ़ हरप्रीत नागपाल 24 जुलाई 2017:  फ्लाईंग सिख। यह एक नाम बताता है कि किस तरह महान धावक  मिल्खा सिंह अभी भी देश में कई उदीयमान खिलाडिय़ों के लिए प्रमुख प्रेरक और प्रेरणा बने हुये हैं। ऐसा ही एक किरदार स्टार प्लस पर प्रसारित हो रहे शो ‘मेरी दुर्गा’ की मुख्य नायिका दुर्गा है। इस शो का प्रसारण चैनल पर सोमवार से शनिवार शाम 6.30 बजे होता है दुर्गा ने अपना बचपन धान के खेतों में पतंगों के पीछे दौड़ कर बिताया और उसे बस इतना पता था कि उसका सपना कक्षा की चारदीवारी के बाहर था। अपने पिता की इच्छा के विरुद्ध दुर्गा स्टेट लेवल चैंपियनशिप के लिए दौड़ रही थी। तभी एक घटना उसकी सभी उम्मीदों को चकनाचूर कर देती है और दुर्गा पूरी तरह से टूट जाती है आधा दशक गुजर चुका है; ‘छोटी’ दुर्गा अब कतई ‘छोटी’ नहीं रह गई है। वह अब 19 साल की हो गई है और वाकई में एक हताश लड़की है, जिसका अतीत काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा है और वह इससे काफी डरी हुई है। दुर्गा ने अपनी रनिंग को पीछे छोड़ दिया है और अब वह इसमें कतई रुचिकर नहीं है। इसके विपरीत, उसके पिता यशपाल चौधरी (विकी आहूजा) अपनी बेटी को अब सपोर्ट कर रहे हैं और उसके सपनों को पूरा करने के लिए उसे सही राह पर लेकर आते हैं। यशपाल की भूमिका पूरी तरह उलट गई है, पहले जो व्यक्ति दुर्गा को हतोत्साहित करता था, वही अब उसे अपना सपना पूरा करने के लिए प्रेरणा दे रहा है। ऐसी स्थिति में, क्या दुर्गा दोबारा लड़ेगी और अपने अतीत को भुला देगी लीप के बाद दुर्गा का किरदार निभा रही सृष्टि जैन ने चंडीगढ़ का दौरा किया और उन्होंने महान धावक श्री मिल्खा सिंह से दौडऩा शुरू करने के लिए प्रेरणा प्राप्त की। मिल्खा सिंह ने दुर्गा को अपने सपनों को पूरा करने के महत्व के बारे में बताया और रास्ते में आने वाली बाधाओं के कारण पीछे नहीं हटने की हिदायत दी। दुर्गा के पिता दुर्गा में दौडऩे का जुनून दोबारा जगाने के लिए काफी संघर्ष कर रहे हैं, ऐसे में मिल्खा सिंह से मिलना दुर्गा के लिए सपना सच होने जैसा है। उनसे मिलकर दुर्गा को आवश्यक प्रेरणा मिली दुर्गा के लिए, एक महान धावक से मिलने से बेहतर कुछ और नहीं हो सकता, जिसने देश-विदेश में खेलों के इतिहास में सबसे बड़ा नाम बनने के लिए काफी कड़ी मेहनत की। फ्लाईंग सिख से मिलने के अपने अनुभव के बारे में सृष्टि जैन ने कहा, ”सृष्टि के रूप में मेरे लिय, इतनी महान शख्सियत से मिलना सपना सच होने जैसा है। हमने हमेशा उनकी उपलब्धियों के बारे में सुना है, लेकिन मुझे उनसे मिलने और उनकी सभी सफलताओं को देखने का मौका मिला। दुर्गा के लिए, कोई भी चीज फिर से रनिंग में उसका वापस नहीं आने का फैसला नहीं बदल सकती, लेकिन सच्चाई यह है कि वह एक ऐसे इंसान से मिली जिसने उसे व्यापक तस्वीर दिखाई और उसे सही राह पर चलने के लिए प्रोत्साहित किया, वह निश्चित रूप से अपने फैसले के बारे सोचने के लिए प्रेरित होगी।”
 सृष्टि इस शो में अपने प्रवेश को लेकर काफी उत्साहित है। अपनी भूमिका के बारे में उन्होंने कहा, ”दुर्गा को निश्चित रूप से यह समझना होगा कि उसे अपने सपने को पूरा करने के लिए उसके पीछे भागना होगा। भले ही उसने अपने सपने को भुला दिया है, लेकिन कभी-कभी सही प्रेरणा मिलने से हम फिर से सही मार्ग पर आ सकते हैं। मैं एक ऐसी लड़की का प्रतिनिधित्व कर रही हूं, जिसने अपनी जिंदगी में तगड़ा झटका सहा है। दुर्गा अब सपने नहीं देखती, बल्कि उसने अपना जोश गंवा दिया है। इस कहानी में कई सशक्त भावनायें हैं जो मुझे निभानी हैं। तो देखते हैं कि क्या होता है। दुर्गा को अब सही प्रेरणा मिली है। क्या वह दोबारा दौड़ेगी, इसके लिए दर्शकों को हमारा शो अवश्य देखना चाहिये।”
 श्री मिल्खा सिंह, प्रतिष्ठित खेल हस्ती और धावक ने कहा, ”यह बेहद महत्वपूर्ण समय है जब हमने खेल बिरादरी में महिलाओं के योगदान को महसूस करना शुरू कर दिया है। हम हर क्षेत्र में महिलाओं के पुरूषों की बराबरी करने की बात कर रहे हैं, और खेल एक सबसे बड़ा मंच है, जहां वे शानदार काम कर रही हैं। फिर चाहे फिल्में हों या इन जैसे शोज, जोकि महिला खिलाडिय़ों को बढ़ावा दे रहे हैं। मुझे लगता है कि भविष्य बेहद उज्जवल है। भारत में कई लड़कियों के लिए दुर्गा जैसे किरदार प्रेरणादायक होते हैं। खासतौर से हरियाण के छोटे कस्बों की लड़कियों के लिए, जहां महिला भ्रूण हत्या जैसे मुद्दे अभी भी मौजूद है।”
अधिक जानने के लिए यशपाल एवं दुर्गा के साथ शामिल हों ‘मेरी दुर्गा’ में, हर रोज शाम 6:30 बजे सिर्फ स्टार प्लस पर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here