मुख्यमंत्री पंजाब द्वारा बिजली विभाग को बिजली चोरी विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने के आदेश

0
519
to day news in hindi chandigarh

ऑय 1 न्यूज़ ब्यूरो रिपोट चंडीगढ़, 18 जुलाई: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज राज्य के बिजली विभाग को  बिजली चोरी विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। उन्होंने  तरनतारन, अमृतसर, फरीदकोट, फिरोज़पुर आदि जैसे सीमावर्ती क्षेत्रों विरूद्ध यह कार्रवाई विशेषतौर पर तेकाी से चलाने के लिए कहा है आज यहां नई औद्योगिक नीति के प्रारूप संबंधी विचारविमर्श के दौरान उन्होंने कहा कि यह समस्या सीमावर्ती क्षेत्रों में बहुत अधिक है और इसको रोकने की आवश्यकता है मुख्यमंत्री ने संबंधित विभागों को राज्यभर में नियमों को लागू करने के लिए सिविल अॅथारिटी की सेवाएं लेने के लिए कहा है मुख्यमंत्री ने कहा कि तरनतारन के कुछ हिस्सों में बिजली का 41 प्रतिशत से अधिक नुकसान हो रहा है और संगरूर अमृतसर एवं मलोट भी इससे बुरी तरह प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि बिजली का यह नुकसान उन क्षेत्रों में लगातार बढ़ा है जहां स्थानीय विरोध और सियासी संरक्षण विभाग को खपतकारों के घरों के बाहर मीटर लगाने के लिये रोकती हैं। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में विभाग मीटर घरों से बाहर लगाने के लिये सफल हुआ है वहां यह नुकसान बहुत कम हुआ है।  विभाग द्वारा उपलब्ध करवाये गये आंकड़ों से पता लगता है कि तरनतारन (भिख्खीविंड) में बिजली की तारों में 41.54 प्रतिशत बिजली का नुकसान होता है जबकि मुक्तसर (मलोट) में 41.38 प्रतिशत, तरनतारन (पट्टी) में 38.18 प्रतिशत बिजली का नुकसान वित्तीय वर्ष 2017 में हुआ है। मुक्तसर के बादल में 38.08 प्रतिशत, अमृतसर के नीम शहरी क्षेत्रों में 37.92 प्रतिशत और अमृतसर के पश्चिमी नीम शहरी क्षेत्र में 32.04 प्रतिशत बिजली का नुकसान हो रहा है। बिजली के और अधिक नुकसान वाले क्षेत्रों में फरीदकोट, संगरूर, गुरदासपुर और फिरोज़पुर शामिल हैं। प्रवक्ता अनुसार सभी सीमावर्ती क्षेत्रों में बिजली की लाइनों में बिजली का बहुत बड़ा नुकसान हो रहा है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने विभाग को स्पष्ट किया है कि इस संबंधी किसी भी प्रकार की ढील बर्दाश्त नही की जायेगी। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here