पंजाब पुलिस ने दो अन्प्य आंतकवाद गिरफतार करके आंतकवादी गिरोह का सफाया किया

0
724
 ऑय 1 न्यूज़ ब्यूरो रिपोट चंडीगढ़, 12 जुलाई: पंजाब पुलिस ने दो अन्प्य आंतकवाद गिरफतार करके आंतकवादी गिरोह का सफाया किया डेरा सच्चा सौदा के एक पैरोकार और राजस्थान के एक विवादित धार्मिक उपदेशक की हत्या का मामला सुलझायापंजाब पुलिस ने राज्य में एक अन्य आंतकवादी गिरोह का सफाया करके मामले का सुलझा दिया है जिनमें डेरा सच्चा सौदा के एक पैरोकार और वर्ष 2016 में राजस्थान में एक विवादपूर्ण धार्मिक उपदेशक के मारे जाने का मामला शामिल है पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के दिशा निर्देशों अधीन राज्य पुलिस ने असुलझे पुराने केसों की जांच करने का कार्य आंरभ किया है और उस समय उन शक्की आंतकवादियों और अपराधियो विरूद्ध हल्ला बोला गया है जो पिछले समय दौरान खुल रूप में घूम रहे है। आज यहां एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस ने एक ताजा कार्यवाही दौरान मंगलवार को अंतर्राज्य आंतकवादी गिरोह के सदस्यों को गिरफतार किया। नवांशहर , फिरोजपुर और कपूरथला जिलों की पुलिस द्वारा खुफिया तालमेल के आधार पर यह कार्यवाही की गई। प्रवक्ता अनुसार गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी को गांव कोहाला, पुलिस थाना मल्लावाला जिला फिरोजपुर में और 25 वर्षीय अवतार सिंह उर्फ, पम्मा निवासी कोहाला को गांव भाणोलंगा पुलिस थाना सदर कपूरथला से गिरफतार किया गया है। प्रवक्ता अनुसार जांच दौरान पता चला है कि यह दोनों डेरा सच्चा सौदा के पैरोकार 31 वर्षीय गुरदवे सिंह गांव बुरज जवाहर सिंह वाला जिला फरीदकोट को पिछले वर्ष 13 जून के की गई हत्या में शामिल है। यह दोनों बाबा लख्खा सिंह उर्फ लखविन्द्र सिंह उर्फ पखंडी बाबा की 23 नवंबर 2016 को राजस्थान के हनुमानगढ़ में हुई हत्या में शामिल थे। पुलिसने गिरफतार किये यगे इन आंतकवादियों से एक 12 बोर की राईफल और 32 बोर का रिवालवर बरामद किया हैं। इन हत्याओं में शामिल अन्य शक्की अशोक कुमार वोहरा उर्फ अमना सेठ (26) गांव कोहाला अंधेरे का फायदा उठाकर बच कर निकल गया।
प्रांरभिक जांच दौरान पता चला है कि और भी विभिंन लोग इस गिरोह के निशाने पर थे और इन शक्कीयों द्वारा कुछ अन्य लोग भी निशाने पर थे जिन पर हमला करने की इन के द्वारा योजना बनाई गई थी ताकि पंजाब को साम्प्रदायिकता के मार्ग पर बांटा जा सके।बुधवार सुबह को की गई कार्यवाही के बाद फिरोजपुर पुलिस ने एक सफेद रंग की सविफट कार (सीएच 1 बीजी 4114)को जब्त कर लिया जोकि गुरदेव सिंह और बाबा लख्खा सिंह की हत्या
के लिए प्रयोग की गई थी इसको बुरज जवाहर सिंह वाला जिला फरीदकोट से बरामद किया गया है। यह गाड़ी अमना सेठ के नाम पर रजिस्टर्ड है जोकि गोपी का नजदीकी साथी है । पुलिस ने एक मारूति सविफट भी बरामद की है जो गोपी से संबधित है । यह गाड़ी उसके द्वारा अपराधिक कार्यवाहियों के लिए प्रयोग की जा रही थी। अमना दो नये लाईसैंसी हथियार रखता था जोकि 2016 में जारी हुये हथियारों के लाईसैंसो पर थे पुलिस द्वारा यह जांच की जा रही है कि कैसे और किस की सिफारिश पर यह लाईसैंस दिये गये। इसी दौरान यह भी खुलासा हुआ कि दोनों का एक अन्य साथी जिस की पहचान जसवंत सिंह काला वासी गांव सोनेवाला पुलिस थान सदर, श्री मुक्तसर साहिब के रूप में हुई , भी इस गिरोह का एक मुख्य सदस्य था जो हत्याओं के लिए जिम्मेवार है। पुलिस द्वारा अशोक सहित उसकी भी खोज जारी है।
जिला फिरोजपुर और कपूरथला में आंतकवादी गिरोह के सदस्यों विरूद्ध गैर कानूनी सरगर्मियां नियंत्रण एक्ट, असला एक्ट और भारतीय दंडावली की विभिंन संबधित धाराओं तहत दो अलग अलग मामले दर्ज किये गये है। जिक्र योग है कि विवादित बाबा लख्खा सिंह स्वयं बना भगवान था जिसने अपने आप को गुरू नानक देव जी का सवरूप बताया हुआ था। वह मूल रूप में अबोहर का था और सिक्ख भाईचारे द्वारा उसके ढोग का विरोध करने के बाद यह फरार हो क  राजस्थानचला गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here