क्या आप विश्वास करेंगे कि आज भी उत्तर प्रदेश के शामली जिले के कुछ गांव ऐसे हैं जिनमें रहने वाले ज्यादातर युवा चोरी और स्नैचिंग में संलिप्त हैं

0
634

अमित सेठी 15-मार्च 2017 क्या आप विश्वास करेंगे कि आज भी उत्तर प्रदेश के शामली जिले के कुछ गांव ऐसे हैं जिनमें रहने वाले ज्यादातर युवा चोरी और स्नैचिंग में संलिप्त हैं और पूरे देश में अपनी हरकतो से वारदातों को अंजाम दे रहे  हैं। चंडीगढ़ पुलिस ने ऐसे ही एक गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ने में सफलता प्राप्त करके ऑटो बाइक चोरी और स्नैचिंग के 24 मामले हल करने का दावा किया है । इन वारदातों में संलिप्त अशोक कुमार पुलिस स्टेशन झिंगयाना जिला शामली राजेश कुमार पुलिस स्टेशन   जिला शामली  देव कोहली पुलिस स्टेशन जिनगाना डिस्ट्रिक्ट शामली के रहने वाले हैं। इसकी जानकारी देते हुए DSP क्राइम ब्रांच पवन कुमार ने बताया कि चंडीगढ़ के सेक्टर 15 में नाका लगाकर गुप्त जानकारी के मुताबिक अशोक कुमार और राजेश कुमार को गिरफ्तार किया ।जिन का रिमांड लेने पर उनकी दी हुई जानकारी के आधार पर तीसरे आरोपी देव कोहली को गिरफ्तार किया है। इनके काम करने का तरीका यह है कि यह चोरी करने के बाद बाइक को यमुना के रास्ते किश्ती पर लाद कार लेकर जाते हैं ताकि रास्ते में लगे पुलिस नाकों से बचा जा सके। शामली जिला उत्तर प्रदेश के ज्यादातर गांव के युवा चोरी और स्नेचिंग की वारदातों में संलिप्त है और इनकी संख्या काफी ज्यादा है और पूरे देश में फैले हुए हैं। यह लोग अंतर्राष्ट्रीय गिरोह बवाना से संबंधित है ।अशोक और बाकी आरोपियों पर दिल्ली में 40 मामले दर्ज हैं इसके इलावा हरियाणा यूपी मैं यह भगोड़ा करार दिया जा चुका है। इनसे समान खरीदने वाला चतर सिंह नाम का युवक पहले ही अंबाला जेल में पुलिस द्वारा पकड़ कर पहुंचाया जा चुका है उसको पुलिस प्रोडक्शन रिमांड पर चंडीगढ़ जा रही है। इनसे अभी तक 21 सोने की चेन और तीन मोटर बाइक बरामद की गई है जो सभी चंडीगढ़ से सनैच की गई है। चंडीगढ़ के इलावा इस गैंग ने लुधियाना सोनीपत मुजफ्फरनगर पंचकूला मोहाली के साथ साथ चेन्नई बेंगलुरु और देश के अन्य हिस्सों में भी सजा सिंह और चोरी की वारदातें की है और इनके काफी सदस्य विभिन्न शहरों की जेलों में बंद है और काफी अभी पुलिस के कब्जे में आने बाकी है। वारदात करने के बाद कुछ दिन यह अपने गांव चले जाते हैं और फिर वापस आकर वारदाते शुरू कर देते हैं इन को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस को राहत की सांस मिली है क्योंकि चंडीगढ़ और आसपास के इलाकों में स्नैचिंग और ऑटो लिफ्टिंग की वारदातों में पिछले दिनों काफी वृद्धि हो चुकी थी।

वाइट पवन कुमार डीएसपी क्राइम ब्रांच चंडीगढ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here