हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र के भतीजे आकांक्ष की हत्या के मामले में चंडीगढ़ पुलिस ने अहम् सफलता हासिल करते हुए मामले के आरोपी हरमेहताब को गिरफ्तार कर लिया है

0
484

अमित सेठी 16 फरबरी 2017 हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र के भतीजे आकांक्ष की हत्या के मामले में चंडीगढ़ पुलिस ने अहम् सफलता हासिल करते हुए मामले के आरोपी हरमेहताब को गिरफ्तार कर लिया है | आरोपी को पुलिस ने हरिद्वार स्थित आश्रम के बाहर से गिरफ्तार किया है | हालाकि पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कैसे किया और आकांश सेन की हत्या क्यों की गई इसको लेकर पुलिस फिलहाल कुछ भी स्पष्ट रूप से नहीं बता पाई है  चंडीगढ़ पुलिस के एस एस पी ईश सिंघल ने चंडीगढ़ पुलिस मुख्यालय में की प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि उन्हें हरमेहताब को लेकर इनपुट मिली थी जिसके आधार पर इंस्पेक्टर अमनजोत सिंह की अगुवाई वाली सर्च टीम ने आरोपी हरमेहताब को हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया है लेकिन अभी इस मामले का दूसरा आरोपी बलराज रंधावा पुलिस की गिरफ्त से फरार है | साथ ही पुलिस इस घटनाक्रम में इस्तेमाल की गई बी एम् डब्लू कार को भी फिलहाल बरामद नहीं कर पाई है

एस एस पी का कहना है कि इस मामले में अब पुलिस गिरफ्तार किये आरोपी को जिला अदालत चंडीगढ़ में पेश कर रिमांड हासिल करने का प्रयास करेगी | जिसके बाद इस पुरे मामले का खुलासा होने की उम्मीद है | आपको बता दे कि इस घटनाक्रम के बाद से ही हरमेहताब और बलराज रंधावा फरार चल रहे थे | दो दिन पहले हरमेहताब के द्वारा चंडीगढ़ जिला अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी | जिसे लम्बी बहस एवं चंडीगढ़ पुलिस के एतराज के बाद माननीय न्यायधीश ने ख़ारिज कर दिया था |

वही एस एस पी ईश सिंघल का कहना है कि घटना की रात करीब 11 युवक और युवतियां चंडीगढ़ सेक्टर 9 में पार्टी कर रहे थे | इस पार्टी में हरमेहताब और शेरा भी मोजूद थे जिनकीं आपस में पुरानी रंजिश थी | दोनों का इस पार्टी में भी झगडा हो गया और सुबह करीब 6 बजे आकांश के उपर गाडी चढाने का मामला सामने आया अब इस दौरान क्या वाक्य घटित हुआ कि आकांश को अपनी जान गवानी पड़ी यह फिलहाल जांच का विषय है | फिलहाल इस मामले में पुलिस पार्टी में मोजूद चार लोगो के ब्यान दर्ज कर चुकी है | पुलिस चारो के बयानों एवं शिकायतकर्ता अधम्य सिंह के बयानों के आधार पर मामला दर्ज करके कार्यवाही कर रही है |  वही एस एस पी सिंघल का यह भी कहना था कि इस मामले में पार्टी कर रहे अधिकतर युवक नशे की हालत में थे |

वही एस एस पी का यह भी कहना था कि आरोपी युवक ने आत्मसमर्पण नहीं किया है बलिक घटनाक्रम के बाद से ही आरोपियों ने मोबाइल फ़ोन, क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल बंद कर दिया था ताकि इनकी लोकेशन सर्च ना हो पाए | मामले में फरार चल रहे दुसरे आरोपी बलराज रंधावा की धरपकड़ की लिये भी चंडीगढ़ पुलिस की 27 टीमे प्रयासरत है | साथ ही इस मामले में पुलिस किसी भी आरोपी को बचाने का प्रयास नहीं कर रही है |

बाईट   .. ईश सिंघल एस एस पी चंडीगढ़ पुलिस