आवाज पंजाब दी के सरपरस्त सुच्चा सिंह छोटेपुर ने कहा कि सभी पार्टियों को अपने विधानसभा क्षेत्रों से इस्तीफा देकर अपनी एकजुटता का सबूत देना चाहिए

0
512

अमित सेठी 15-11 2016 आवाज पंजाब दी के सरपरस्त सुच्चा सिंह छोटेपुर ने कहा कि सभी पार्टियों को अपने विधानसभा क्षेत्रों से इस्तीफा देकर अपनी एकजुटता का सबूत देना चाहिए और ट्रिब्यूनल बनाकर एसवाईएल मुद्दे के पिछले सारे समझोतों को रद्द करके नया समझोता करना चाहिए। आज चंडीगढ़ प्रेस क्लब में सुच्चा सिंह छोटेपुर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

सुच्चा सिंह छोटेपुर ने कहा कि शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस दोनों ही इस स्थिति के लिए जिम्मेवार हैं । जब कर्पूरी में एसवाईएल नहर की शुरुआत हुई थी तो कैप्टन अमरिंदर सिंह भी इंदिरा गांधी के साथ था। मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल केंद्र की सरकार में भी हिस्सेदार हैं, हरियाणा में भी उनकी सरकार है और पंजाब में भी उनकी गठबंधन सरकार है। इसके बावजूद एसवाईएल मुद्दे पर प्रधानमंत्री से सिफारिश करके कुछ नहीं करवा सके। बादल बार-बार यह दावा करते हैं के शरीर के खून की आखिरी बूंद तक वह पानी को नहीं जाने देंगे पर अपनी बहू के पद की रक्षा करते हुए मुख्यमंत्री बादल ने घुटने टेक दिए हुए हैं। उन्होंने कहा आम आदमी पार्टी के कन्वीनर अरविंद केजरीवाल ने एसवाईएल मुद्दे पर पिछले 4 दिन में कोई टिप्पणी नहीं की क्योंकि वह हरियाणा दिल्ली और पंजाब सभी को खुश रखना चाहते हैं। इस से साफ जाहिर होता है के केजरीवाल सिर्फ नोट और वोट बटोरने पंजाब में आते हैं। छोटेपुर ने कहा कि हम भी समय लेकर राष्ट्रपति से मिलेंगे और एसवाईएल मुद्दे पर पुनर्विचार करने की अपील करेंगे।

बाइट सुच्चा सिंह छोटेपुर आवाज पंजाब दी पार्टी के नेता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here