आपदा प्रबंधन व जागरूकता कार्यक्रम समय की आवश्यकता

0
746

 

शिमला, 06 अक्तूबरः आपदा प्रबंधन समय की आवश्यकता है और इसके लिए सभी कदम समयबद्ध उठाने चाहिए ताकि किसी भी आपदा की स्थिति के दौरान नुकसान को कम किया जा सके । यह बात अतिरिक्त मुख्य सचिव, शहरी विकास, मनीषा नंदा ने गेयटी थियेटर में समर्थ -2016 के तहत आयोजित समापन समारोह के दौरान कही।  मनीषा नंदा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में भौगोलिक विभिन्नता है और यहां प्राकृतिक आपदाओं की सम्भावना बनी रहती है, इसलिए प्रदेश में आपदा प्रबंधन को सशक्त बनाने के लिए महत्वकांक्षी कदम उठाए जा रहे हैं ।राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा यह प्रयास किया जा रहा है कि आपदा के दौरान बचाव कार्याें के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम और सभी जरूरी कार्य समयबद्ध पूरे किए जायंे। किसी भी आपदा के प्रबंधन के लिए सही प्रतिक्रिया समय पर की जानी चाहिए । उन्होंने कहा कि आपदा प्रबंधन जागरूकता में माॅकड्रिल और प्रशिक्षण का विशेष महत्व है। इसके लिए राज्य में आपदा तत्परता एवं बचाव हेतू मार्गदर्शिका एवं अन्य सामग्री भी तैयार की गई है।इससे पूर्व  मनीषा नंदा ने आपदा प्रबन्धन जागरूकता अभियान में सराहनीय भूमिका अदा करने वाले स्वयं सेविया,ें एनडीआरएफ,अग्निशमन विभाग, अधिकारियों व कर्मचारियों को सम्मानित किया।
डी.डी.शर्मा, विशेष सचिव, राजस्व ने राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की और अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी  सुनील शर्मा ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
इस अवसर पर मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह, एन.डी.आर.एफ. के कमांडैंट श्री लोकेंद्र सिंह, मुख्य अग्निशमन अधिकारी  जे.सी.शर्मा और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
-0-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here