सीबीआई ने चंडीगढ़ पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा के डीएसपी  चन्दर मीणा और एस आई सुरिंदर समेत 2 और लोगों को 40 लाख रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथो गिरफ्तार किया है।

0
743

सीबीआई ने चंडीगढ़ पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा के डीएसपी  चन्दर मीणा और एस आई सुरिंदर समेत 2 और लोगों को 40 लाख रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथो गिरफ्तार किया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चंडीगढ़ के सैक्टर 9 की रहने वाली गणिता चावला ने सीबीआई को शिकायत दर्ज करवाई थी की उसके पति के साथ सम्पति को लेकर चल रहे मामले में डीएसपी द्वारा 40 लाख  रुपए की डिमांड की जा रही है जिसके बाद कार्यवाही करते हुए सीबीआई ने ट्रैप लगाकर डीएसपी राम चन्दर मीणा , एस आई सुरिंदर और 2 अन्य लोग जिनकी पहचान बर्कले शोरूम के संजय और चौथे व्यक्ति अमन ग्रोवर के रूप में हुई है। आज सूबा सीबीआई कोट में पेश किया कोट ने 2 दिन का रिमांड दिया है।  सेक्टर नौ के मकान नंबर 305 के विवाद में दो दिन पहले जब ईओडब्ल्यू ने दीपा दुग्गल के ससुर और उसके दोस्त को गिरफ्तार किया था तभी से दूसरे पक्ष में हड़कंप मचा हुआ था। जब दूसरे पक्ष ने ईओडब्ल्यू के डीएसपी से संपर्क किया तो उसने गिरफ्तारी से बचाने के लिए 75 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी। चूंकि पुलिस गुनीता चावला के पति हमरीत चावला की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश दे रही थी। इससे घबड़ाए हमरीत ने पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए इंडस्ट्रियल एरिया स्थित बर्कले शोरूम के मालिक संजय दहुला और सेक्टर-43 स्थित केएलजी होटल के मालिक अमन ग्रोवर को बिचौलिया बनाया।संजय और अमन ने हमरीत को बचाने के लिए ईओडब्ल्यू डीएसपी रामचंद्र मीणा और केस के इंवेस्टिगेटिंग आफिसर सुरेंद्र कुमार भारद्वाज से संपर्क किया। आरोप है कि डीएसपी मीणा ने गिरफ्तारी न करने और केस को रफा दफा करने करने के लिए 75 लाख रुपये की रिश्वत मांगी।दोनों बिचौलियों ने हमरीत की सहमति से डील फाइनल कर दी। डीएसपी ने रिश्वत की पहली किश्त 40 लाख रुपये मांगे। हमरीत ने बिचौलिए संजय दहुला और अमन ग्रोवर को 40 लाख रुपये दे दिया।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here